एक समय दक्षिण कोरिया की कंपनी सैमसंग ने स्मार्टफोन के बाजार में नोकिया जैसे मेगा ब्रांड को इंडियन मार्केट से कुछ ऐसे तड़ीपार किया था कि बेचारा माइक्रोसौफ्ट की गोद में बैठने के बावजूद भी आज-तक कमबैक नहीं कर पाया. हालांकि सेर को सवासेर मिल ही जाता है. इसलिए एंड्रौयड के बाजार में काबिज हो चुके सैमसंग को बीट किया चाइना के शाओमी, वीवो, वन प्लस जैसे मोबाइल ब्रांड्स ने. ये सब बजट फोन के साथ बाजार में आये और देखते ही देखते सैमसंग के हाथों से स्मार्टफोन बाजार खिसकने लगा. नतीजतन सैमसंग को अपनी रणनीति बदलने पर मजबूर होना पड़ा. अब वह भी बजट फोन लांच करता है. और अपनी टक्कर आईफोन के बजाये शाओमी के साथ मानने लगा है.

Tags:
COMMENT