संसार के 7 आश्चर्यों में से एक मिस्र के पिरामिडों का रहस्य जानने की नए सिरे से कोशिश हो रही है. इस अभियान में मिस्र के अलावा फ्रांस, कनाडा और जापान के विशेषज्ञ एकसाथ जुटे हैं, जिन का मुख्य उद्देश्य है पिरामिडों की तकनीक और इन के अंदर के चैंबर के रहस्य जानना. प्राचीन मिस्रवासियों की धारणा थी कि उन का राजा किसी देवता का वंशज है, अत: वे उसी रूप में उसे पूजना चाहते थे. मृत्यु के बाद राजा दूसरी दुनिया में अन्य देवताओं से जा मिलता है, इस धारणा के चलते राजा का मकबरा बनाया जाता था और इन्हीं मकबरों का नाम पिरामिड रखा गया था. दरअसल, प्राचीन मिस्र में राजा अपने जीवनकाल में ही एक विशाल एवं भव्य मकबरे का निर्माण कराता था ताकि उसे मृत्यु के बाद उस में दफनाया जा सके. यह मकबरा त्रिभुजाकार होता था. ये पिरामिड चट्टान काट कर बनाए जाते थे. इन पिरामिडों में केवल राजा ही नहीं बल्कि रानियों के शव भी दफनाए जाते थे. यही नहीं, शव के साथ अनेक कीमती वस्तुएं भी दफन की जाती थीं. चोरलुटेरे इन कीमती वस्तुओं को चुरा कर न ले जा सकें, इसलिए पिरामिड की संरचना बड़ी जटिल रखी जाती थी. प्राय: शव को दफनाने का कक्ष पिरामिड के केंद्र में होता था.

COMMENT