जब चाहत की बारिश

मन की बगिया में हुई

खुशबू बिखेरने को

खिल गई एक कली

 

मैं नहीं परेशान

मेरा दिल धड़क रहा

कहना है बहुत कुछ

पर जबान सिल गई

 

तू ऐसी नजरों से

न देख मेहरबां

मुझे है लग रहा

मेरी सांस थम रही

 

किया क्या तू ने

असर हुआ इतना गहरा

जीने की मेरी ख्वाहिशें

कुछ और बढ़ गईं.

 

 - बंदना राय

 

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...