कोई शर्त नहीं

‘‘खानाबदोश सी बन गई है जिंदगी... अभी तंबू गाड़े भी नहीं थे कि उखाड़ने की तैयारी शुरू...’’ अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट कुलदीप अपना बैग पैक करतेकरते राज्य सरकार की ट्रांसफर पौलिसी को कोस रहे थे.

सरिता डिजिटल सब्सक्राइब करें
अपनी पसंदीदा कहानियां और सामाजिक मुद्दों से जुड़ी हर जानकारी के लिए सब्सक्राइब करिए
अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें