कर्नल धर्म सिंह जैसे ही अपने दफ्तर से निकले कि उन के ड्राइवर ने तेजी दिखाते हुए कार का दरवाजा खोला, पर कर्नल ने इशारे से ड्राइवर को अपने पास बुलाया और उसे बाजार से कुछ सामान लाने का आदेश दिया. फिर वे अपने घर की ओर पैदल ही चल पड़े. दफ्तर से घर का रास्ता मुश्किल से कुछ ही गज की दूरी पर था. पत्नी रजनी ने कर्नल धर्म सिंह को पहले ही मोबाइल फोन पर सूचना दे दी थी कि उन के गांव के रिश्ते के चाचा रघुवीर सिंह अपने बेटे ज्ञानेश के साथ उन से मिलने आए हैं.

कर्नल धर्म सिंह अपने गांव से आने वाले किसी भी शख्स की खूब आवभगत करते थे. गांव से उन का प्यार और मोह भंग नहीं हुआ था. रघुवीर चाचा से मिलते ही कर्नल धर्म सिंह ने उन के पैर छुए और चाचा ने भी उन्हें अपने गले से लगा लिया. ज्ञानेश ने भी पूरी इज्जत के साथ कर्नल धर्म सिंह के पैर छुए. बातचीत का दौर चला, फिर चाचा रघुवीर सिंह अपने मुद्दे पर आ गए. उन्होंने कहा, ‘‘बेटा धर्म सिंह, तुम्हारा यह छोटा भाई ज्ञानेश अगले हफ्ते मेरठ में लगने वाले सेना के भरती कैंप में जाने की तैयारी कर रहा है.’’ ‘‘चाचाजी, देश की सेवा से बढ़ कर तो कोई चीज हो ही नहीं सकती. ज्ञानेश जैसे हट्टेकट्टे नौजवानों के सेना में शामिल होने से सेना तो मजबूत होगी ही, हमारे गांव का नाम भी रोशन होगा,’’ कर्नल धर्म सिंह ने कहा.

 ये भी पढ़ें-Short Story : एक नजर

‘‘बेटा, मैं इसीलिए तो तुम्हारे पास आया हूं कि तू इस की कुछ मदद कर दे.’’

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT