ममता की कीमत

एक दिन रौशनी ने मेरे गले में अपने गले का चैन डालकर चली गई.

सरिता डिजिटल सब्सक्राइब करें
अपनी पसंदीदा कहानियां और सामाजिक मुद्दों से जुड़ी हर जानकारी के लिए सब्सक्राइब करिए
अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें