लेखिका-सवि शर्मा

अरे, 7 बज गए. हड़बड़ा कर उठी. पता ही न चला, कब नींद में अलार्म बंद कर दिया. कुछ भी समय पर नहीं हो पा रहा. 7 बजे तो आंख खुली है. अभी मनु को नाश्ता, खाना, तैयार करना है और 9 बजे निकलना है. कैसे करेगी, खुद को भी तैयार होना है.

मां के देहावसान के बाद खूबसूरत से खिलते जीवन में जैसे अचानक कोई तूफ़ान आ गया हो.

यह आंख भी जाने क्यों नहीं खुलती. आधे समय तो नींद में ही अलार्म बंद कर देती है. रोज़ ही औफ़िस को देर हो जाती है. जब तक सासुमां ज़िंदा थीं तो कभी ऐसा हुआ ही नहीं कि उसे औफ़िस की देर हुई हो. हमेशा प्रोजैक्ट समयसीमा से पहले ही पूरा कर देती थी. औफिस के विवाहित साथी उस से कई बार पूछते थे, कैसे कर पाती हो पूरा, छोटे बच्चे और गृहस्थी के साथ.

ये भी पढ़ें- एक बाती बुझती हुई

उसे भी बोध कहां था कि इन सब उपलब्धियों के पीछे मां का परोक्षरूप में सहयोग है. बस, सब की बात सुन गर्व से मुसकरा देती थी. जल्दी से उठी. मनु को दूध दिया, “मेरा राजा बेटा, अपनेआप दूध पिएगा.” “मम्मा, इस में तो बादाम भी नहीं हैं, दादी तो रोज़ बादाम देती थीं.”

“कोई बात नहीं, आज पी लो, कल ज़रूर बना दूंगी.” रुद्री को मन में बुरा लगा, रोज़ सोचती है मनु को कल से दूध में बादाम पीस कर देगी पर वह कल आ ही नहीं पाता. जल्दी से अपने कपड़े ले नहाने घुस गई वह.“अरे, यह क्या किया मनु बेटा, सारा दूध गिरा दिया?” वह नहा कर निकली तो देखा सारा दूध फ़र्श पर बिखरा था.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT