दोस्ती  इस सृष्टि का अनमोल रिश्ता है, यह अकेला ऐसा रिश्ता है, जिसको कभी भी कितने ही लोगों से बांटा जा सकता है. यह रिश्ता खून के रिश्ते से भी अधिक गहरा और सगे रिश्ते से भी अधिक सच्चा होता है . ज़माने के बदलते दौर के साथ दोस्ते के स्वरूप भी बदला है, आधुनिक जीवन में तकनीक का बढ़ता योगदान दोस्ती के दायरे कों और फैला दिया है . सोशल -नेट्वर्किंग सीटो और तकनीक ने हमारे दोस्तों कों और अधिक हमारे नजदीक ला दिया है . आधुनिक परिवेश में दोस्ती के स्वरूपों कों भापने और दोस्ती के अनमोल रिश्तो कों समझने के उद्देश्य से हमने कई युवाओ के बात किया, बातचीत के बाद जो नतीजो से पत्ता चला कि  आधुनिकता के इस दौर में भी दोस्ती का सच्चा रिश्ता सच , भरोसे और विश्वास पर टिका हुआ है.  आज भी दोस्ती का नीव सच के बुनियाद पर टिका है. आज भी बचपन के दोस्त  सबसे अधिक याद आते है . सृष्टि के इस अनमोल रिश्तो कों लेकर कि गई बातचीत के नतीजे विनय सिंह की कलम से ...

Tags:
COMMENT