नेपाल के सुदूर पश्चिमांचल में राप्ती क्षेत्र के दांग गांव की नीरमाया. उसे उस का पति प्रेम दूसरे बच्चे के पैदा होने के समय गर्भावस्था में ही छोड़ कर कोरिया में एक कंस्ट्रक्शन कंपनी में ड्राइवर का काम करने चला गया. घर की माली हालत ठीक नहीं होने के कारण नीरमाया ने विदेश में काम दिलाने वाले एजेंट विष्णु थापा से विदेश में घर का काम करने, बच्चे की देखभाल करने का काम दिलवाने के लिए कहा.

नीरमाया को लगा कि विदेश में काम करने पर अच्छे पैसे मिलेंगे. एजेंट विष्णु थापा ने नीरमाया को नेपाली 25 हजार रुपए में काम दिलाने का वादा किया. बदले में सऊदी अरब जाने का टिकट लेने और 2 लाख रुपए कमीशन के रूप में विदेश भेजने के एवज में नीरमाया से मांगा. नीरमाया ने कर्ज ले कर 1 लाख रुपया विष्णु थापा को दिया, बाकी पैसे के लिए उस ने विदेश से भिजवाने की बात कही.

नीरमाया शेख के 6 साल के बच्चे की देखभाल के लिए सऊदी अरब चली गई. 19 साल की नीरमाया गोरी, सुंदर थी. 2-3 महीने तक वह ठीक से काम करती रही. शेख के यहां से समय पर पैसे मिल जाते. नीरमाया उन पैसों को नेपाल में अपने गांव दांग में वैस्टर्न यूनियन बैंक के मारफत भिजवा देती. नीरमाया ने 1 लाख रुपया एडवांस ले कर विष्णु थापा को भी भिजवा दिया.

एक दिन अरब शेख की पत्नी घर पर नहीं थी. शेख ने नीरमाया के साथ जबरदस्ती शारीरिक संबंध बना लिया. फिर तो नीरमाया शेख के दोस्तों के साथ रोज ही हमबिस्तर होने लगी. बदले में उसे लगभग रोज ही 5-7 हजार नेपाली रुपए मिल जाते थे. रोजरोज सहवास करतेकरते वह थक जाती. अरेबियन लोग नएनए तरीके से, अप्राकृतिकरूप से नीरमाया के साथ सैक्स करते जो कि नीरमाया को ठीक नहीं लगता. नीरमाया न चाहते हुए भी सैक्स के धंधे में उतर गई. नीरमाया ने धीरेधीरे तकरीबन 10 लाख नेपाली रुपए जोड़ लिए थे. नीरमाया का शेख से 5 साल का अनुबंध था.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...