नास्तिक शब्द, जिसे इंग्लिश में एथीस्ट कहते हैं, को बहुत ही नकारात्मक अर्थ में लिया जाता है. तुरंत नास्तिकों के विचारों से दूरी बनाए रखने की सलाह दे दी जाती है. इस से होता यह है कि नास्तिक लोग भी खुद को प्रगतिशील, तर्कशील, उदार जैसे शब्दों में पिरोने लगते हैं. ऐसा क्यों? नास्तिकता की विचारधारा किसी एक जगह, देश, या व्यक्ति से नहीं बंधी, यह तो किसी भी तार्किक जगह, देश या व्यक्ति के भीतर पनप सकती है.

अकसर भारत में नास्तिकता को पश्चिमी विचार मान कर खारिज कर दिया जाता है पर जानकारी लायक बात यह है कि इसी देश की धरती पर दैवीय शक्तियों को नकारने वाले विचार पैदा हुए और बढ़े भी, भले उन का आज स्वरूप बदल गया हो पर चार्वाक, बौद्ध और जैन इत्यादि विचार यहीं के पैदाइश रहे.

अधिकांश लोग धार्मिक हैं और उन का विश्वास होता है कि ईश्वर में आस्था रखने पर ही वे दयालु, परोपकारी, प्रेममय और प्रफुल्ल होते हैं और तभी जीवन का आनंद ले सकते हैं. वे सच में यह सोचते हैं कि जो ईश्वर को नहीं मानता वह एक अच्छा और नैतिक व्यक्ति नहीं हो सकता. वह दूसरों का भला नहीं कर सकता और न तो हंसबोल सकता है. यानी वह एक दुखी और बुरा व्यक्ति है.

कोई व्यक्ति जो किसी दैवीय चमत्कारों पर विश्वास नहीं करता पर चुपचाप यह सब सहतासुनता है तो वास्तव में वह इस नकारात्मक सोच का समर्थन ही कर रहा होता है. इस से वह यही साबित कर रहा होता है कि वास्तव में नास्तिक खुश नहीं रह सकते, आनंदित नहीं हो सकते.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...