उत्तर प्रदेश के जिला वाराणसी के दालमंडी इलाके के चाहमामा निवासी काजिम हुसैन ने बीते साल 4 दिसंबर, 2016 की रात को पुलिस को सूचना दी थी कि उन के पिता मशहूर शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्लाह खां की चांदी की 4 शहनाइयां घर में रखे बक्से का ताला तोड़ कर चोरी कर ली गई हैं. जब यह घटना घटी थी, तब वह हड़हा स्थित अपने पुश्तैनी मकान पर परिवार के साथ गए हुए थे. मामला गंभीर था, इसलिए चौक पुलिस ही नहीं, क्राइम ब्रांच पुलिस ने चोर का पता लगाने की काफी कोशिश की. लेकिन जब ये लोग कुछ नहीं कर पाए तो इस मामले की जांच को एसटीएफ को सौंप दिया गया. सर्विलांस से पता चला कि उस्ताद बिस्मिल्लाह खां की शहनाइयां चोरी की सूचना देने वाले काजिम के बेटे नजरे हसन ने ही चुराई थीं और वह असम भागने वाला था. पुलिस को मुखबिरों से पता चला था कि नजरे हसन हड़हा बीर बाबा मंदिर के पास खड़ा किसी का इंतजार कर रहा है. एसटीएफ इंसपेक्टर विपिन राय की अगुवाई में टीम ने घेराबंदी कर के नजरे हसन और उसे रुपए देने आए 2 लोगों को गिरफ्तार कर लिया.

COMMENT