सवाल

मैं 36 वर्षीय विवाहिता हूं. हमदोनों पतिपत्नी की यह दूसरी शादी है. पहले पति से मेरी 1 बेटी मेरे साथ है. पति के 2 बच्चे हैं- 1 बेटी और 1 बेटा. दोनों बच्चे मेरी बेटी से बड़े हैं. पति ने विवाह पूर्व वादा किया  था कि मेरी बेटी को वे अपने बच्चों जैसा ही प्यार देंगे. वे अपने वादे पर अडिग भी हैं. मेरी बेटी को अच्छे स्कूल में पढ़ा रहे हैं, अपने बच्चों सा दुलार भी देते हैं, पर उन के बच्चे न तो मुझे मां का मान (दिल से) देते हैं और न ही मेरी बेटी से प्यार करते हैं. मेरी बेटी सहमीसहमी सी रहती है.

ये भी पढ़ें- मेरी सास, मेरे साथ रहने को तैयार नहीं हैं, जिससे मुझे काफी दिक्कत होती है. मैं क्या करूं?

जवाब

आप के पति की सोच सही है. अभी आप लोगों को साथ रहते कम वक्त ही हुआ है. इस के अलावा लगता है शादी करने से पहले आप के पति ने अपने बच्चों को मानसिक स्तर पर तैयार नहीं किया. यदि विवाहपूर्व वे उन्हें विश्वास में लेते और बताते कि बच्चों की सही परवरिश  के लिए मातापिता दोनों का सहयोग जरूरी होता है. वे कई अवसरों पर अकेले इस जिम्मेदारी को नहीं निभा पाएंगे. इसीलिए उन के लिए नई मां ला रहे हैं जो उन्हें प्यारदुलार देगी, घरपरिवार में सहयोग देगी तो ज्यादा अच्छा रहता पर संभवतया उन्होंने ऐसा नहीं किया. इसीलिए कठिनाई आ रही है.

अब भी स्थिति सामान्य हो सकती है बशर्ते आप धैर्य बनाए रखें. अपनी बच्ची के प्रति बच्चों की उपेक्षा को ज्यादा तूल न दें. देरसवेर वे सामान्य व्यवहार करने लगेंगे.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT