सवाल

मेरे पिता ऐसी नौकरी नहीं करते जिसे वे घर बैठे जारी रख सकें. सो, घर का सारा खर्च मेरे कंधों पर है. मेरी तनख्वाह से जो पैसा आता है वह मैं घर में दे देता हूं. लेकिन मुझे लगता है जैसे मेरे इतना सब करने पर भी मेरे माता-पिता को मेरी बिलकुल कद्र नहीं है. वे मुझ पर किसी भी बात के लिए ऐसे चीख पड़ते हैं जैसे मैं अब भी छोटा बच्चा हूं. कभी-कभी तो इतना गुस्सा आता है कि मन करता है नौकरी छोड़ कर बैठ जाऊं, शायद तब उन्हें समझ आए कि उन्हें कम से कम अब मुझ से इस तरह पेश नहीं आना चाहिए.

Tags:
COMMENT