सवाल

मैं 53 वर्षीय गृहिणी हूं. बच्चे बड़े हो चुके हैं. बेटी कालेज में पढ़ती है और बेटा जौब करता है. पति का अपना बिजनैस है. ससुरजी का देहांत 3 साल पहले हो गया था. तभी से सास पूरी तरह से बिस्तर से लग गईं. मेरे पति उन का पूरा ध्यान रखते हैं. वक्त पर उन्हें दवाई देते हैं. यहां तक कि यदि अगर अटेंडैंट नहीं आ पाती तो वे उन का डाइपर तक चेंज करते हैं. मु  झ से यह काम नहीं होता. सास की तबीयत के कारण हम उन्हें घर में अकेला छोड़ कर कहीं नहीं जा सकते. मैं कई बार बहुत परेशान हो जाती हूं. घर को मैंटेन करने के कई काम पैंडिंग पड़े हैं जो उन के कारण हम नहीं करवा पा रहे हैं. कई बार तो मेरी हिम्मत जवाब दे देती है. इस कारण अब मैं मैंटल स्ट्रैस में आ गई हूं. क्या करूंकुछ राय दें.

जवाब

हमें आप के साथ सहानुभूति है. देखिएजिंदगी में कब किस के साथ क्या हो जाएकहा नहीं जा सकता.बसजरा एक बार सोच कर देखिएयदि आप को कुछ हो जाए और आप बिस्तर पर आ जाएं और आप के बच्चे आप के बारे में वही सोचें जो आप इस समय अपनी सास के लिए सोच रही हैं तो आप को कैसा लगेगा.

बसयही सोच कर अपने मन को सम  झाइए. बच्चे वही सीखते हैं जो अपने मातापिता को करते देखते हैं. आप आज अपनी सास की देखभाल कर रही हैं तो कल आप के बच्चे आप की सेवा करेंगे. यही जीवन चक्र है. जहां तक आप परेशानी की बात कर रही हैं तो उन के लिए कोई फुलटाइम मेड रख लें. आप का काम आसान हो जाएगा. यदि आप को 4-5 घंटे के लिए परिवार के साथ कहीं जाना होगा तो वह भी हो जाएगा. किसी तरह से वक्त निकाल लीजिए. वैसेआप के पति आप का पूरा हाथ बंटाते हैं. इस बात से आप को खुश होना चाहिए. 

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...