सवाल

मैं 15 वर्षीय किशोरी हूं. मेरी समस्या यह है कि मेरे माता पिता जब तब मुझ पर बिफरते रहते हैं. मां तो मेरी जासूसी करती लगती हैं. इसलिए मुझे उन के साथ बात करना अच्छा नहीं लगता. मैं ने 10वीं की परीक्षा दी थी, जिस में मैं फेल हो गई थी. मेरे पेरैंट्स मुझे बेवजह तनाव में रखते हैं. मैं क्या करूं?

जवाब

आप की समस्या से यह तो साफ जाहिर है कि आप के मन में अपने पेरैंट्स के लिए रिस्पैक्ट का अंशमात्र भी नहीं है. बढ़ती उम्र में अकसर पेरैंट्स बच्चों पर इसलिए भी निगरानी रखने लगते हैं कि कहीं वे बहक न जाएं, लेकिन इसे आप जासूसी कह कर अपनी मां का तिरस्कार कर रही हैं. आप सब से पहले अपना व्यवहार बदलिए, माता पिता को सम्मान का दर्जा दीजिए. उन की सुनिए, अगर वे कुछ कह रहे हैं तो एक बार मान कर देखिए, अगर उन की बात उचित नहीं लगती तो तरीके से समझा कर उन के सामने अपना मत रख सकती हैं. पेरैंट्स आप को तनाव में नहीं रख रहे आप का नकारात्मक दृष्टिकोण आप के दिमाग का संतुलन बिगाड़ रहा है, जिस से आप सहीगलत में भेद कर पाने में असमर्थ हैं.

अगर आपकी भी ऐसी ही कोई समस्या है तो हमें इस ईमेल आईडी पर भेजें submit.rachna@delhipress.biz

सब्जेक्ट में लिखें- सरिता व्यक्तिगत समस्याएं/ personal problem

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT