राजनीति में हास्यव्यंग्य की हमेशा से बहार रही है. इस देश में राजनीतिबाजों ने कुछ और दिया हो या नहीं, जनता को हंसाने की भरपूर सामग्री दी है. राजनीतिबाजों पर काफी अधिक जोक, व्यंग्य लिखे जाते रहे हैं. लोग राजनेताओं पर बने चुटकुले खूब मजे से सुनतेसुनाते हैं. नेताओं की खामियों से ले कर छोटेबड़े तमाम मुद्दों पर जोक बने हैं. चुनावों के दौर में तो चुटकुलों के माध्यम से हंसीठिठोली की बयार बहने लगती है. लेखकों, कार्टूनिस्टों, व्यंग्यकारों के लेखन से ले कर सोशल मीडिया तक पर नेताओं पर चुटकुले लोगों को खूब हंसा रहे हैं.

COMMENT