उत्तर प्रदेश राज्य की राजधानी लखनऊ से 40 किलोमीटर दूर लालपुर गांव की रहने वाली देवकी देवी परेशान हैं. इस परेशानी की वजह यह है कि उन की बचा कर रखी गई मेहनत की कमाई एक झटके में रद्दी हो गई है. उन के बेटों को यह भी पता चल गया कि उन के पास कितना पैसा है. देवकी देवी कहती हैं, ‘‘हमें पैसा दांत से दबा कर बचाना होता है. कई बार पैसा बचाने के लिए हम बीमारी में दवा नहीं लेने जाते, त्योहार में नए कपड़े नहीं लेते और किसी करीबी तक को मुसीबत के वक्त उधार नहीं देते.

COMMENT