पटना की रहने वाली शालिनी इस बात को ले कर अकसर टैंशन में रहती हैं कि नोएडा में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा उन का बेटा दिलीप हर महीने जरूरत से ज्यादा रुपए खर्च कर देता है. उस के कालेज, होस्टल और मैस की पूरे सालभर की फीस तो एक बार ही जमा कर दी जाती है. इस के बाद भी मोबाइल रिचार्ज कराने, इंटरनैट पैक डलवाने, होटलों में खाने, पिक्चर देखने और डिजाइनर कपड़े आदि खरीदने में वह 8-10 हजार रुपए अलग से खर्चकर देता है. वे बेटे के बैंक अकाउंट में इतने रुपए रख देती हैं कि वक्तबेवक्त उस के काम आ सके, लेकिन वह सारे रुपए निकाल कर अंटशंट कामों में खर्च कर डालता है. उन्होंने कई बार अपने बेटे को फुजूलखर्च बंद करने के बारे में समझाया. कई दफे शालिनी के पति ने भी बेटे को डांटफटकार लगाई, पर वह अपनी फुजूलखर्ची की आदत से बाज नहीं आ रहा है.

रांची हाईकोर्ट के वकील अभय सिन्हा इस बात को ले कर काफी परेशान रहते हैं कि शहर के ही एक मशहूर स्कूल में पढ़ रही उन की बेटी की फरमाइशों का कोई अंत नहीं है. एक फरमाइश पूरी होते ही उस की दूसरी डिमांड सामने आ जाती है. इस बारे में उन्होंने कई बार अपनी बिटिया को समझाया कि उन की आमदनी का बड़ा हिस्सा उस की स्कूल फीस और ट्यूशन फीस पर खर्च हो जाता है, इसलिए वह सोचसमझ कर ही रुपए खर्च किया करे.

ये भी पढ़ें- मां- बाप से बेरुखी, आखिर क्यों

उन के लाख समझाने के बावजूद वह कुछ समझने के लिए तैयार नहीं है. उस की फरमाइशों की वजह से कई बार अभय मुश्किलों में घिर चुके हैं और उस से निबटने के लिए कई बार उन्हें दोस्तों से उधार मांगने के लिए मजबूर होना पड़ा.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT