ग्रीन टी के बहुत से लाभ हैं, इसलिए चाय पीने के बाद टीबैग्स या फिर चायपत्ती को फेंकें नहीं, चायपत्ती को पतले मलमल के मुलायम कपड़े में लपेट कर पोटली बना कर उस का प्रयोग अपनी त्वचा और शरीर के विभिन्न अंगों की सुरक्षा के लिए करें.

आंखों के आसपास काले घेरे व सूजी हुई आंखें : आप की आंखें सूजी हुई रहती हैं और आंखों के नीचे काले घेरे दिखने लगे हैं तो चिंता की बात नहीं है. ग्रीन टी का भरपूर मजा लेने के बाद टीबैग को या फिर चायपत्ती को ठंडा होने दें और आंखें बंद कर बंद आंखों पर टीबैग्स रखें, और आंखों के आसपास काले घेरों पर टीबैग से हलकेहलके मसाज करें. ग्रीन टी में पौलीफीनौल पार्टीकल होते हैं जिन्हें टैनिन्स कहा जाता है. टेनिन्स एक प्रकार का एस्ट्रीन्जैंट है जो इंसानी त्वचा व हर प्रकार के लिविंग टिश्यू को संकुचित करता है. ग्रीन टीबैग्स या पोटली आंखों के आसपास आई सूजन को कम करते हैं और आंखों के नीचे की खून की नाडि़यों के फैलाव को कम कर आंखों के आसपास की त्वचा को टाइट करते हैं जिस से आंखों के आसपास झुर्रियां नहीं पड़तीं.

ये भी पढ़ें- अनजान शहर में मिली है नौकरी तो कैसे करें नई जगह ऐडजस्ट

आंखों में जलन और लाली से राहत : ग्रीन टी में प्रज्वलनरोधी यानी ऐंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो आंखों की लाली और जलन को कम करने में सहायक हैं. उबलते हुए पानी में कुछ टीबैग्स थोड़ी देर तक भिगो कर रखें. पानी को ठंडा होने दें और एक धुले हुए साफ, मुलायम कपड़े को पानी में भिगो कर अतिरिक्त पानी को निचोड़ कर उसे अपनी आंखों के लाल हुए हिस्से पर और जहां आप को जलन का एहसास हो रहा है, रखें, तुरंत राहत मिलेगी.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT