पूर्व राष्ट्रपति डाक्टर एपीजे अब्दुल कलाम ने कहा था ‘महान सपने देखो और उन्हें पूरा करने में जुट जाओ, क्योंकि महान सपने जरूर पूरे होते हैं.’ सो, जरूरी है कि हर बच्चा बड़े सपने देखे. तभी वह उसे पूरा करने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा सकता है. अभिभावकों को अपने बच्चों को बड़े सपने देखने और उस के लिए जरूरी मेहनत करने के लिए प्रेरित करना चाहिए. लेकिन इन्हीं सपनों को पूरा करवाने के लिए अगर पेरैंट्स अपने कामकाज छोड़ कर उन की परवरिश में लग जाएं तो ये पेरैंट्स के लिए नहीं, बल्कि बच्चों के लिए बो?ा बन जाता है क्योंकि हर समय उन पर नजर रखना, उन की किसी समस्या का तुरंत समाधान खोज लेना पेरैंट्स की आदत बन जाती है. ऐसा अधिकतर महिलाएं ही करती हैं क्योंकि इसे वे सही मान कर अपने कीमती समय को बच्चों पर गंवाती रहती हैं.

अपनी काबिलियत को जाने न दें

मुंबई की एक मल्टीस्टोरी बिल्ंिडग में रहने वाली वर्किंग महिला सुनीता प्रैग्नैंट होने पर औफिस जाती रही. डिलीवरी के करीब आने पर उन्होंने मैटरनिटी लीव ले कर औफिस जाना बंद कर दिया. करीब 25 दिनों बाद उस की बेटी हुई. पतिपत्नी की खुशी का ठिकाना न रहा. दोनों ने उस की परवरिश का जिम्मा लिया. सुनीता की मां भी नातिन की परवरिश में बेटी का हाथ बंटाने आ गई. बेटी 3 महीने की हो गई तो सुनीता ने औफिस जौइन कर लिया. लेकिन उस का मन बेटी को याद करता रहा. दिन में कई बार फोन कर वह बेटी का हालचाल पूछती पर फिर भी सुनीता का काम में मन न लगता था. अंत में वह काम छोड़ बच्चे की देखभाल करने लगी.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...