आज अधिकतर लोगों के लिए बढ़ते वजन को कम करना एक चुनौती है. खराब दिनचर्या और अनहैल्दी डाइट के कारण लोगों में मोटापा की शिकायतें अधिक हो गई हैं. ऐसे में लोगों के मन में हमेशा ये सवाल रहता है कि मोटापे को कम करने के लिए क्या ठीक होगा? डाइटिंग या एक्सरसाइज? इस खबर में हम आपको इसी सवाल का जवाब देंगे.

कई स्टडीज में ये बात उभर कर आई कि वजन पर होने वाले असर में डाइट का योगदान बेहद अहम होता है. जो भी हम खाते हैं उससे हमारे शरीर को कैलोरीज मिलती हैं. अगर हम जरूरत से अधिक कैलोरीज का सेवन करते हैं तो हमारा वजन बढ़ता है. इस लिए जरूरी है कि हम अपनी डाइट पर खासा ध्यान दें और जरूरत के हिसाब ही खाना खाएं.

शुगर से पीड़ित गर्भवती महिलाओं के बच्चों को हो सकती है ये बीमारी

जानकारों की माने तो हमारे शरीर में एनर्जी तीन तरह से खर्च होती हैं. बेसल मेटाबौलिक रेट, फूड का ब्रेक होना और फिजिकल एक्टिविटी.

शरीर की जरूरतों के अनुरूप जितनी उर्जा शरीर को चाहिए उसे हम बेसल मेटाबौलिक रेट कहते हैं. आपको बता दें कि शरीर द्वारा उत्पन्न होने वाली 60 से 80 फीसदी एनर्जी शरीर के बेसल मेटाबौलिक रेट द्वारा इस्तेमाल होती हैं.

क्या आप जानते हैं तांबे के बर्तन में पानी पीने के फायदे?

इसके अलावा 10 फीसदी कैलोरी का इस्तेमाल खाने को डाइजेस्ट करने के लिए होता है. इसका मतलब ये है कि फिजिकल एक्टिविटी में हमारी कैलोरीज का 10 से 30 फीसदी हिस्सा ही बर्न होता है. इसमें वौकिंग, रनिंग और एक्सरसाइज शामिल हैं.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT