बच्चा वहीं सीखता है जैसा उसे माहौल मिलता है. चाहे वो घर का हो या स्कूल का. यह बात सिर्फ उसके व्यवहार पर ही लागू नहीं होती बल्कि उसकी सेहत से भी जुड़ी होती है. बच्चे बहुत कोमल होते हैं, जैसे सांचे में ढालोगे वैसे ही वो बन जाएंगे. इसी तरह उनका पाचन तंत्र भी कमजोर होता है अगर आप उन्हें पोषण से भरपूर भोजन देते हैं तो वो उनकी सेहत के लिये अच्छा होगा. यदि बाहर का खाना या कुछ और खाते हैं तो वो उनकी जीवन शैली के लिए गलत रहेगा और वो कई तरह के संक्रमण की चपेट में आने की आशंका को बढ़ावा देगा. कई बार समस्याएं उम्र बढ़ने के साथ और अधिक परेशान करती हैं. इसलिए जरूरी है उनके खान पान और उनकी जीवनशैली का बचपन से ही ध्यान रखा जाएं.

Tags:
COMMENT