बौलीवुड में पिछले दो तीन वर्षों से सिनेमा में बदलाव की लंबी चौड़ी बातें की जा रही हैं. पर जमीनी हकीकत यह है कि बौलीवुड की कार्यशैली में अभी भी कोई खास बदलाव नहीं आया है. आज भी फिल्मकार लकीर के फकीर बने हुए हैं. आज भी हर फिल्मकार प्रपोजल बनाने में लगा हुआ है. जिसके चलते आज भी गैर फिल्मी परिवारों और छोटे शहरों से आने वाले प्रतिभाशाली कलाकारों को फिल्मों में काम मिलना टेढ़ी खीर साबित हो रहा है. यही वजह है कि ‘‘गैंग आफ वासेपुर’’ के दोनों भागों में सुल्तान का किरदार निभाकर चर्चा में आए अभिनेता पंकज त्रिपाठी का पूरे 12 साल बाद भी संघर्ष खत्म नहीं हुआ है. जबकि वह अब तक ‘‘फुकरे’, ‘सिंघम रिटर्न’, ‘दिलवाले’, ‘मसान’ सहित कई सफलतम व बड़े बजट की फिल्मों का हिस्सा रहे हैं. इन दिनों वह अश्विनी अय्यर तिवारी निर्देशित फिल्म ‘‘निल बटे सन्नाटा’’ में सरकारी स्कूल के प्रिंसिपल व गणित के शिक्षक की भूमिका को लेकर चर्चा में हैं. पंकज त्रिपाठी का मानना है कि उन्हें फिल्म इंडस्ट्री की अतरंगी चाल समझने में 12 साल लग गए.

Digital Plans
Print + Digital Plans
COMMENT