‘‘आ गए सत्संग में हम, संग सत् का हो गया, दुर्गति जाती रही, जब गुरु के मत का हो गया. परम आदरणीय, परम पूजनीय, आसाराम बापूजी को दंडवत् प्रणाम करता हूं...’’ ये शब्द गजेंद्र चौहान ने एक प्रवचन कार्यक्रम के दौरान आसाराम के लिए कहे थे.

गजेंद्र को आसाराम के साथ सभा में नृत्य करते हुए भी देखा गया. वही आसाराम, जो एक नाबालिग लड़की का रेप करने के मामले में जेल में बंद है.

Tags:
COMMENT