यदि आप को जीवन के हर क्षेत्र में कामयाबी हासिल करनी है, जिंदगी का वास्तविक आनन्द उठाना है तो याद रखें, अपनी सेहत को कभी नजरअंदाज न करें. सफलता के लिए सेहत बहुत जरुरी है. सेहत के कुछ ऐसे सूत्र हैं जिन्हें अपना कर आप अपनी सेहत को मुकम्मल रख सकते हैं।

1. व्यायाम भगाए रोग

अमेरिका में सान डियागो स्थित कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ताओं के मुताबिक अपनी व्यस्त जीवनचर्या में से हर रोज व्यायाम के लिए केवल 20 मिनट निकालना भी सेहत के लिए काफी उपयोगी हो सकता है. इस दौरान आप हलके व्यायाम करने के साथ जॉगिंग, ब्रिस्क वाक या साइकिलिंग कर लें. व्यायाम करने से एपिनेफराइन और नोरेपिनेफराइन जैसे हार्मोनों का रक्त में स्राव होता है, जो प्रतिरक्षा कोशिकाओं को प्रेरित करने का काम करते हैं. इस से शरीर में सूजन और इन्फ्लेमेशन का जोखिम कम हो जाता है. गठिया और मांसपेशियों में दर्द की समस्याएं कम होती हैं, दिल और हड्डियां मजबूत होती हैं, प्रतिरक्षा प्रणाली बेहतर होती है और मोटापा भी दूर रहता है.

2. सकारात्मक सोच का असर

वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर चीज़ों पर नकारात्मक सोच के साथ नज़र डाली जाए तो उस से पूरी सेहत पर असर पड़ने लगता है. आदमी की सोच उस की सेहत अच्छी रखने वाले कारकों पर असर डालते हैं. एक अमरीकी पत्रिका प्रोसीडिंग्स ऑफ़ द नेशनल एकेडेमी ऑफ़ साइंस ने एक अध्ययन के बाद नतीजा निकाला है कि दिमाग़ में किसी भी नकारात्मक गतिविधि से आदमी की रोगों से लड़ने की ताक़त कमज़ोर हो जाती है. हारवर्ड विश्वविद्यालय के एक अध्ययन के मुताबिक सकारात्मक विचार वाले लोगों में नकारात्मक रवैये वालों के मुकाबले दिल की तमाम बीमारियों का खतरा एकतिहाई कम होता है.

3. मनपसंद खाएं पर सोचसमझ कर

जो मिल जाए और जब मिल जाए वही खा लेना उचित नहीं. मगर इस का मतलब यह नहीं कि आप मन मार कर हर समय डाइट पर रहे. लंच, स्नैक्स और डिनर का सही वक्त तय करें और इस दौरान सिर्फ खाएं ही नहीं बल्कि अपने खाने को एंज्वॉय करें. सुबह का नाश्ता जल्दी करें और ऐसे ही रात आठ बजे के बाद कुछ भी न खाने को अपना रुटीन बनाएं. इस से आप का शरीर भी इस रुटीन को अपनाने लगेगा. हेल्दी डाइट लेने को अपना शौक ही नहीं बल्कि आदत बनाइए. फ्रेश सब्जी और फल खाएं. इस से जंक फूड्स खाने की अपनी आदत पर आप आसानी से नियंत्रण लगा पाएंगे . साथ ही स्वस्थ और फिट भी महसूस करेंगे .

4. हंस कर जीना सीखें

आप स्वस्थ रहना चाहते हैं तो हंसना सीखें. फिर न तो आप को डॉक्टर के पास जाने की जरूरत पड़ेगी और न ही जिन्दगी में दर्द का अहसास होगा. याद रखिये एक उन्मुक्त हंसी हर बीमारी का इलाज है. सुबह उठ कर हंसने से हमारे मस्तिष्क का व्यायाम होता है. इस से मानसिक संतुलन बना रहता है और दिन भर मन प्रसन्न रहता है. हमेशा हंसते रहने वाला व्यक्ति तनाव में जीने वाले व्यक्ति की तुलना में अधिक स्वस्थ्य होता है. हृदय रोग, रक्तचाप और शुगर की बीमारी तनाव से ही उत्पन्न होती है. हंसी से हर तरह के तनाव और डिप्रेशन दूर होते है और सकारात्मकता का संचार होता है.  आप लोगों के प्रिय बनते हैं और आप का  आत्मविश्वास भी बढ़ता है.

5. योग भी है कारगर

अगर जिम का चक्कर लगाना या नियमित रूप से एक्सरसाइज कर पाना आप के लिए संभव नहीं है तो खुद को फिट रखने के लिए आप योग का सहारा भी ले सकते हैं. सूर्य नमस्कार और कपालभाती प्राणायाम आदि की मदद से फिट रहने के साथ बढ़ते वजन को नियंत्रित किया जा सकता है. सूर्य नमस्कार से शरीर के सभी अंगों का व्यायाम हो जाता है.

6. सही नींद लें

अच्छी सेहत के लिए एक अच्छी , गहरी और सुकून भरी नींद बहुत जरुरी होती है. कम नींद लेने से सेहत को कई तरह से नुकसान पहुंचता है. भरपूर नींद न लेने पर कई रोग जैसे आँखों में सूजन होना, स्मरण शक्ति में कमी आना, आलस्य, थकान, डायबिटीज, स्ट्रोक, मोटापा, तनाव, कमजोरी, असंतुलन की स्थिति होना आदि परेशान करने लगत हैं. दिमाग़ और शरीर के दूसरे अंगों को पर्याप्त आराम दे कर तरोताज़ा करने के लिए अच्छी नींद बहुत ज़रूरी है. जब हम गहरी नींद में होते हैं तो शरीर टॉक्सिक पदार्थों को साफ़ करने का काम करता है जिस वजह से सो कर उठने पर हम हल्का महसूस करते हैं. अच्छी नींद अंदरूनी अंगों की सेहत के लिए नहीं बल्कि दमकती त्वचा के लिए भी बहुत ज़रूरी है. रात में 10-11 बजे तक सोने और सुबह जल्दी उठने की आदत डालनी चाहिए.

7.सफाई का रखें ख्याल

खाना पकाने और पीने के लिए साफ़ पानी का इस्तेमाल करें. सब्जियों और फलों को अच्छी तरह धो कर उपयोग में लाएं. अपने घर और दफ्तर के अलावा स्कूल कॉलेज , मेट्रो या बस स्टैंड जैसे सार्वजनिक इलाकों में भी साफ़सफाई का ख़याल रखें. सफाई न रखने पर कई तरह के इन्फेक्शन शरीर को अपनी गिरफ्त में ले लेते हैं.

Edited By- Neelesh Singh Sisodia 

Tags:
COMMENT