एक समय था जब खिलाडि़यों के लिए उन का सब से बड़ा सम्मान उन का ट्रौफी या मैडल हुआ करता था लेकिन बदलते वक्त के साथ इन की भी फितरत बदल गई है. अब ये सरकारी पुरस्कारों को ही सब से बड़ा मैडल मानने लगे हैं. शायद इसीलिए अब वे मैदान में मैडलों के लिए जुझारूपन दिखाने के बजाय मैदान के बाहर सम्मान या पुरस्कार पाने के लिए ज्यादा दिलचस्पी ले रहे हैं. कुछ महीने पहले अर्जुन पुरस्कार के लिए विवाद हुआ था और अब पद्मभूषण के लिए मामला गरमाया हुआ है. इस बार भारतीय बैडमिंटन की स्टार सायना नेहवाल को ले कर विवाद खड़ा हो गया. सायना ने अपना स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि उन्होंने कभी भी सम्मान की मांग नहीं की. उन का सवाल सिर्फ इतना था कि उन का नाम गृह मंत्रालय में क्यों नहीं भेजा गया. किसी भी खिलाड़ी को सम्मान उस के योगदान को देख कर दिया जाता है, यह बात सायना को भी मालूम है पर उन्हें यह समझने की जरूरत है कि इस के लिए किसी सिफारिश या आवेदन की जरूरत नहीं होती है. ऐसा भी नहीं है कि सायना को सम्मान नहीं दिया गया है. उन्हें वर्ष 2009 में अर्जुन अवार्ड और वर्ष 2010 में देश का सर्वोच्च खेल पुरस्कार राजीव गांधी खेलरत्न तथा पद्मश्री अवार्ड मिल चुके हैं. बावजूद इस के, एक पुरस्कार की दावेदारी में अपने नाम न आने पर बखेड़ा खड़ा करना उन की जैसी प्रतिभावान खिलाड़ी को शोभा नहीं देता.

दरअसल, आज के खिलाडि़यों को अब खेल की भूख कम, अवार्डों की भूख ज्यादा लगने लगी है. ओलिंपिक या राष्ट्रमंडल खेल में एक पदक हासिल किया नहीं कि अवार्ड्स के लिए हल्ला शुरू कर देते हैं. यह भी सही है कि अवार्ड्स के मामले में खेल मंत्रालय से ले कर खेल संघों के बीच गुटबंदी इतनी है कि खिलाड़ी अपने आकाओं को खुश करने के लिए चमचागीरी में लग जाते हैं ताकि उन का नाम अवार्ड के लिए आगे भेजा जाए. सम्मान मिलना वाकई गर्व की बात होती है. लेकिन सम्मान अपनेआप पैदा होता है, आप उसे जबरन पैदा नहीं कर सकते. यह तो किसी हस्ती को उन के योगदानों को देखते हुए दिया जाता है. इस के लिए किसी की सिफारिश या मीडिया में शोरगुल करने की जरूरत नहीं होनी चाहिए. माना कि देश में चमचागीरी, राजनीति और खेमेबाजी के चलते खेल और खिलाडि़यों के साथ पक्षपात होता है लेकिन एक खिलाड़ी की सच्ची प्रतिभा, हुनर कोे बहुत दिनों तक दबाया नहीं जा सकता, उसे जाहिर होना ही है.

*

नए युग की शुरुआत

आस्ट्रेलिया और भारत के बीच 4 टैस्ट मैचों की सीरीज आस्ट्रेलिया ने 2-0 से जीत ली है. भारत की तरफ से युवा बल्लेबाजों ने आस्ट्रेलिया की बाउंस पिच पर अच्छा प्रदर्शन किया, वहीं हमेशा की तरह गेंदबाजों ने निराश किया. हार और जीत की बात छोड़ दें तो यह सीरीज विराट कोहिली के लिए अहम थी क्योंकि महेंद्र सिंह धौनी के टैस्ट कैरियर से संन्यास लेने के बाद कोहिली को यह साबित करना था कि वे अब कप्तानी के लिए परिपक्व हो चुके हैं. टीम इंडिया को लो और्डर बैट्समैन के लिए सोचना नहीं पड़ेगा क्योंकि भुवनेश्वर इस सीरीज में बेहतर विकल्प बन कर उभरे हैं. अजिंक्य रहाणे, मुरली विजय के साथ लोकेश राहुल ने भी अपने को साबित कर दिखाया कि वे भी विदेशी पिचों पर अपना कमाल दिखा सकते हैं.

यानी विराट कोहिली की सेना में ऐसे खिलाड़ी भी हैं जो जरूरत पड़ने पर मैच को बचा सकते हैं लेकिन टीम इंडिया की परेशानी शुरू से ही खराब गेंदबाजी रही है, खासकर विदेशी पिचों पर. ईशांत शर्मा, उमेश यादव, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी और रविचंद्रन अश्विन सभी चारों टैस्ट मैचों में आस्ट्रेलिया के 20 विकेट झटकने में असफल रहे. नए गेंदबाजों को घरेलू क्रिकेट में तलाशना होगा. वैसे देखा जाए तो यह सीरीज हमेशा याद की जाएगी क्योंकि युवा आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी फिलिप ह्यूज की आकस्मिक मौत के बाद सीरीज पर ग्रहण लगता नजर आ रहा था. मानसिक रूप से कोई खिलाड़ी खेलना नहीं चाह रहा था पर कार्यक्रम में फेरबदल कर इसे शुरू किया गया. फिर मेलबर्न टैस्ट के बाद भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने टैस्ट से संन्यास की घोषणा कर दी, जो चौंकाने वाला था. उस के बाद आस्ट्रेलियाई कप्तान माइकल क्लार्क अनफिट हो गए. ऐसे में दोनों टैस्ट टीमों के लिए नए कप्तानों की घोषणा करनी पड़ी. मुश्किल दौर में जिस तरह से युवा खिलाडि़यों ने अपनी प्रतिभा दिखाई, उसे देख कर विशेषज्ञों ने इसे क्रिकेट में नए युग का उदय माना.

COMMENT