वर्ष 2004 में जब एथेंस ओलिंपिक में राज्यवर्द्धन सिंह राठौर ने डबल ट्रैप शूटिंग में सिल्वर मैडल जीता तो पूरा देश गर्व से खिल उठा था. उस के बाद शूटिंग में हम आगे बढ़ते गए और वर्ष 2008 में उन्होंने देश को बीजिंग ओलिंपिक में गोल्ड मैडल दिलाया. इस मैडल से नए निशानेबाजों के लिए उन्होंने नई उम्मीद जगा दी. अभिनव ने अपनी कामयाबी स्कौटलैंड ग्लास्गो कौमनवैल्थ गेम्स में भी जारी रखी. उन्होंने एक बार फिर देश को गोल्ड मैडल दिलाया. हालांकि इस के साथ ही इस शूटर ने आगे से कौमनवैल्थ गेम्स में हिस्सा न लेने का ऐलान भी कर दिया.

Tags:
COMMENT