‘खिलते हैं गुल यहां...’, ‘मैं ने कहा फूलों हंसो तो वो खिलखिला कर हंस दिए...’, ‘फूल आहिस्ता फेंको, फूल बड़े नाजुक होते हैं...’, ‘ऐ फूलों की रानी बहारों की मलिका...’, ‘फूल तुम्हें भेजा है खत में...’ जैसे गीत गुनगुनाना उन्हें इसलिए पसंद है क्योंकि इन गीतों में फूलों का जिक्र है. तरहतरह के फूलों के रसिया एम्ब्रोस पैट्रिक हमेशा फूल पौधों के बीच घिरे रहना पसंद करते हैं व फूलों और पौधों के बगैर उन की कोई बात पूरी ही नहीं होती. बचपन से फूलों और पौधों को गमले में लगाने के शौकीन रहे एम्ब्रोस ने अपने घर की छत पर काफी बड़ा और हर तरह के फूलों के पौधों से सजा गार्डन बना रखा है. काम के बोझ के बीच भी वे हर दिन 2 से 3 घंटे गार्डन की देखरेख में गुजारते हैं. छुट्टियों के दिन में तो 5-7 घंटे वे अपने फूलपौधों के साथ ही गुजारते हैं.

Tags:
COMMENT