सौजन्य-सत्यकथा

श्रद्धा के रहस्यमय ढंग से गायब हो जाने के बाद उस के पति योगेंद्र ने अपने दोस्त प्रमोद के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज करा दी. जिस से प्रमोद 14 महीने तक जेल में रहा. फिर एक दिन पुलिस ने श्रद्धा को जीवित बरामद कर लिया. श्रद्धा से पूछताछ करने के बाद इस कहानी का ऐसा रहस्य सामने आया कि...

उन्नाव शहर का एक मोहल्ला है—जुराखन खेड़ा. हिंदूमुसलिम की मिलीजुली आबादी वाले इस मोहल्ले में राजेंद्र अवस्थी का परिवार रहता था. उन की पत्नी कमला अवस्थी घरेलू महिला थी, जबकि राजेंद्र अवस्थी सामाजिक कार्यकर्ता थे. वह दौलतमंद तो न थे, लेकिन समाज में उन की अच्छी छवि थी.

शहर में उन का निजी मकान था और उन के  3 बच्चों में योगेंद्र कुमार सब से बड़ा था. राजेंद्र अवस्थी की तमन्ना थी कि उन का बेटा योगेंद्र कुमार उच्चशिक्षा हासिल कर अफसर बने और उन का नाम रोशन करे. लेकिन उन की यह तमन्ना अधूरी रह गई.

Crime Story: आलिया की मजबूरी

योगेंद्र कुमार ने इंटरमीडिएट की परीक्षा पास करने के बाद पढ़ाई छोड़ दी और नौकरी की तलाश में लग गया. कई महीने की दौड़धूप के बाद उसे उन्नाव की एक निजी कंपनी में नौकरी मिल गई.

योेगेंद्र कुमार नौकरी करने लगा तो राजेंद्र को उस के ब्याह की फिक्र होने लगी. उन के पास कई रिश्ते आए भी, लेकिन बात नहीं बनी. दरअसल वह सीधीसादी सामाजिक व संस्कारवान लड़की चाहते थे, लेकिन ऐसी लड़की उन्हें मिल नहीं रही थी. इस तरह कई साल गुजर गए और योगेंद्र कुंवारा ही रहा.

उन्हीं दिनों योगेंद्र कुमार की मुलाकात श्रद्धा से हुई. श्रद्धा स्टेशन रोड, उन्नाव में रहती थी और एक फर्म में जौब करती थी. मुलाकातों का सिलसिला एक बार शुरू हुआ तो फिर वक्त के साथ बढ़ता चला गया. आकर्षण दोनों ही तरफ था, सो वे जल्द ही एकदूसरे से मन ही मन प्यार करने लगे. छुट्टी वाले दिन दोनों साथसाथ घूमते, हंसते बतियाते और प्यार भरी बातें करते.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT