भ्रामक बातें कई बार इंसान को इस स्थिति तक पहुंचा देती हैं कि वह उन बातों को सही मान कर कदम उठा लेता है. जो दूसरे के ही नहीं, उस के अपने लिए भी घातक साबित होते हैं. काश! शिवम रोशनी पर विश्वास कर लेता तो...       ‘‘शिवम, तुम को केवल गलतफहमी है, मेरा तुम्हारे अलावा किसी से

Tags:
COMMENT