5 फरवरी, 2016 को बिहार में फतुहा के कच्ची दरगाह इलाके में सैंट्रल बैंक औफ इंडिया के पास अपराधियों ने एके-47 राइफल से ताबड़तोड़ गोलियां बरसा कर लोक जनशक्ति पार्टी के नेता और मुखिया रह चुके 60 साला बृजनाथी सिंह को मौत की नींद सुला दिया. इस हत्याकांड में बृजनाथी सिंह की बीवी वीरा देवी और भतीजा रोशन कुमार बालबाल बच गए. वीरा देवी ने अपने कोट की जेब में मोबाइल फोन का पावर बैंक रखा हुआ था, जिस से गोली उन के सीने में नहीं लग सकी. अपराधियों के भागने के बाद ड्राइवर गाड़ी को पटना के अगमकुआं इलाके के चिरायू अस्पताल तक ले गया, पर तब तक बृजनाथी सिंह की मौत हो चुकी थी.

COMMENT