कर्ज के बोझ तले दबे रिलायंस कम्यूनिकेशन ने एरिक्शन के बकाया 550 करोड़ रुपये का भुगतान ब्याज समेत कर दिया है. अनील अंबानी की कंपनी आरकौम के इस कर्ज को चुकाने में उनके भाई मुकेश अंबानी और भाभी नीता अंबानी अहम किरदार रहें. आपको बता दें कि दोनों कंपनियों के बीच चल रहे इस कर्ज के विवाद की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में चल रही थी. कोर्ट ने अनिल अंबानी को एक तय वक्त में बकाया का भुगतान करने के आदेश दिए थे, ऐसा ना करने पर अनिल अंबानी को जेल भी जाना पड़ सकता था. लंबे समय से चल रहे इस मामले में वो अदालत की अवमानना के दोषी करार दे गए थे जिसके बाद ये खबर उनके लिए किसी राहत से कम नहीं, वो जेल जाने से बच गए.

एरिक्सन के बकाये की भुगतान के बाद अनिल ने अपने बड़े भाई और भाभी के प्रति आभार जताते हुए कहा, ‘मैं अपने आदरणीय बड़े भाई मुकेश और भाभी नीता के इस मुश्किल वक्त में मेरे साथ खड़े रहने और मदद करने का तहेदिल से शुक्रिया करता हूं. समय पर यह मदद करके उन्होंने परिवार के मजबूत मूल्यों और परिवार के महत्व को रेखांकित किया है. मैं और मेरा परिवार बहुत आभारी हैं कि हम पुरानी बातों को पीछे छोड़ कर आगे बढ़ चुके हैं और उनके इस व्यवहार ने मुझे अंदर तक प्रभावित किया है.’

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने रिसायंस कम्यूनिकेशन के प्रमुख अनिल अंबानी को जानबूझ कर उनके आदेश की अवमानना करने और एरिक्सन के बकाये का भुगतान नहीं करने पर आदालत द्वारा दोषी करार दिए गए थे.

एरिक्सन का भुगतान करने के बाद आरकौम ने रिलायंस जियो के साथ 2017 में दूरसंचार संपत्तियों की बिक्री के लिए किए गए करार भी खत्म कर दिया है. आपको बता दें कि ये करार 17,000 करोड़ का था. दोनों समूहों ने सोमवार को इस करार को निरस्त करने की घोषणा करते हुए कहा कि सरकार और ऋणदाताओं से मंजूरी मिलने में देरी और कई तरह की अड़चनों यह समझौता समाप्त किया जाता है.

Tags:
COMMENT