‘गोरी तेरे प्यार में’ लाइट मूड की रोमांटिक फिल्म है जिस में नायक को नायिका का प्यार पाने के लिए पापड़ बेलने पड़ते हैं. यहां तक कि नायिका को हासिल करने के लिए उसे शहर की चकाचौंध भरी लाइफ को छोड़ कर गांव में जा कर रहना पड़ता है और गोबर से भरी सड़क पर चलते हुए, रूखीसूखी खा कर एक पुल का निर्माण करना पड़ता है. मरता क्या न करता, गोरी के प्यार को जो पाना था.

फिल्म का निर्माण करण जौहर ने किया है. वर्ष 2010 में ‘कभी खुशी कभी गम’ फिल्म में करण जौहर के सहायक रहे पुनीत मल्होत्रा के स्वतंत्र निर्देशन में बनी यह दूसरी फिल्म है. पुनीत मल्होत्रा ने इस फिल्म की शुरुआत तो ठीक ढंग से की है लेकिन मध्यांतर के बाद उस ने आशुतोष गोवरिकर की फिल्म ‘लगान’ और ‘स्वदेश’ की कौपी करने की कोशिश की है. इस कोशिश में वह नाकाम रहा है और फिल्म फुस्स हो कर रह गई है.

फिल्म की कहानी बेंगलुरु में रहने वाले एक तमिलियन आर्किटैक्ट श्रीराम (इमरान खान) और दिल्ली में रहने वाली एक पंजाबन दीया (करीना कपूर) की है. दीया एक एनजीओ के साथ जुड़ी है और समाजसेवा करती है. दोनों की मुलाकात होती है और प्यार हो जाता है. उधर श्रीराम के घर वाले उस की शादी एक तमिल लड़की वसुधा (श्रद्धा कपूर) से कराना चाहते हैं, जो एक सिख युवक से प्रेम करती है और श्रीराम से शादी से मना करने को कहती है. श्रीराम शादी के मंडप से भाग जाता है और दीया को हासिल करने के लिए एक गांव में पहुंच जाता है, जहां दीया समाजसेवा में लगी है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...