विमलाजी का रोरो कर बुरा हाल था. उन का इकलौता बेटा मनीष 10 दिनों से लापता था. सब ने समझाया कि थाने में रिपोर्ट दर्ज करवा देनी चाहिए, लेकिन इस बात पर वे चुप्पी साध लेती थीं. उन के पति बारबार कालोनी के लोगों के सामने उन को ताने दे रहे थे कि उन के सिर चढ़ाने का ही यह परिणाम है, अवश्य किसी लड़की के साथ भाग गया होगा, जब पैसे खत्म होंगे तो अपनेआप घर लौट कर आएगा. अचानक एक दिन विमला भी घर से गईं और लौट कर नहीं आईं तो उन के पति और कालोनीवासियों का माथा ठनका कि जरूर दाल में कुछ काला है. पुलिस में रिपोर्ट लिखवाई गई. विमलाजी की खोज जोरशोर से की जाने लगी, सब ने अंदाजा लगाया कि मांबेटे दोनों के लापता होने के पीछे एक ही कारण होगा.

COMMENT