लेखिका: सुधा सिन्हा

सलवारसूट: भाग 1

अब आगे पढ़ें

आखिरी भाग

वर्षों पहले बांके बिहारी को किडनी स्टोन की तकलीफ हुई थी. उसी के सिलसिले में डा. कैप्टन शर्मा का इस घर में प्रवेश हुआ था. पास में ही रहते थे. कभी सैनिक अस्पताल में थे. घर में बड़ों या बच्चों की कोई बीमारी हो, तो हमेशा उन्हें ही बुला लिया जाता. धीरेधीरे वे इस घर के सदस्य जैसे बन गए.

दोनों परिवारों में भी सामाजिक संबंध हो गए थे. वे सरकारी अस्पताल के डाक्टर थे. वहां से छूटते ही अकसर वे यहां आ बैठते थे और ‘भाभी एक गरमगरम चाय हो जाए,’ कह सोफे पर पसर जाते थे. इस मरीज ने यह तमाशा किया, उस वार्ड बौय ने किसे कैसे तंग किया, किस नर्स का किस डाक्टर से क्या संबंध है, सबकुछ नाटकीय ढंग से बताते जाते. और बच्चों से ले कर बड़ों तक का हंसाहंसा कर दम भर देते. चमकी तो बचपन से ही मानो उन की दुम थी. जब वे आते, बस, उन्हीं से चिपकी रहती. अब बड़ी हो गई है, हजार काम हैं उस को, पर अब भी सबकुछ छोड़छाड़ कर कुछ देर के लिए तो जरूर ही आ बैठती है उन के पास.

‘कोई नजला नहीं, कोई जुकाम नहीं,’ वह हमेशा यही उत्तर देती रही है, लेकिन आज बोली, ‘‘बूआ से आप उन के कमरे में मिल ही लीजिए.’’

‘‘भई, ऐसी क्या बात हुई कि हमें वहां जाना पड़ेगा? तबीयत तो ठीक है न?’’ उन्होंने पूछा.

वर्षों से इस परिवार में आनाजाना है. अब रिटायर हो चुके हैं, पर कभी भी उन्होंने चंद्रा के कमरे में कदम नहीं रखा है. हां, जब भी आते हैं एक नजर उसे देखने की ख्वाहिश उन की अवश्य होती है. पहले जब वह जवान थी तो कभीकभी परदे की आड़ से, छिप कर उन के नाटकीय वर्णनों को सुना करती थी. एक अदृश्य शक्ति से उन्हें एकदम पता लग जाता था कि कब वह उन्हें सुन रही है. वे कुछ सजग हो जाते, वे कुछ और हंसीमजाक कर के उस वर्णन में जान डालने की कोशिश करते. मानो चंद्रा को खुश कर के उन्हें तृप्ति मिलेगी. जब चंद्रा चली जाती तो उन्हें पता चल जाता और उन की बातें भी खत्म हो जातीं और फिर वे चले जाते.

तब वे बालबच्चे वाले थे. घर में मां थीं, 2 बहनें थीं, पत्नी, बच्चे थे, बड़ी जिम्मेदारी थी. उन्होंने चंद्रा से चाहा भी कुछ नहीं था. उस की उदास जिंदगी में थोड़ी खुशी भरना चाहते थे, बस. अब मां, पत्नी परलोक सिधार चुकी हैं. बच्चे, बहनें अपनीअपनी गृहस्थी में सुखी हैं. कोई यहां, कोई वहां जा बसा है. बेटे विदेश में बस चुके हैं. अब वे नितांत अकेले हैं, रिटायर्ड हैं, पर स्वतंत्र ही रहना चाहते हैं. उन के परिवार के नाम पर बांके बिहारी के परिवारजन हैं. रोज ही आने लगे हैं यहां आजकल. लेकिन अभी भी चंद्रा सामने नहीं आती. यदि पड़ भी जाती है तो अभिवादन भर कर लेती है. मुसकरा कर, सिर हिला कर हां या न में उन के सवालों का जवाब दे देती है और वापस चली जाती है.

डा. कैप्टन शर्मा राधिका से अकसर पूछ लेते, ‘और चंद्रा कैसी है? कोईर् नजला, कोई जुकाम?’

राधिका हंसती, ‘नहीं, ठीक है वह. उसे नजलाजुकाम की फुरसत कहां है. आजकल उस के स्कूल में परीक्षाएं चल रही हैं. कुछ ट्यूशनें भी घर में लेनी शुरू कर दी हैं उस ने. आजकल बडि़यां बनाने में लगी है या आजकल स्वेटर बुनने में व्यस्त है,’ आदिआदि जैसी चंद्रा की सैकंडहैंड खबरें राधिका से उन्हें मिलती रहतीं. कभी वे कोई मैगजीन ले आते, उपन्यास ले आते उस के लिए.

बस, इतना ही. और कुछ नहीं. दुखिया को एकाकीपन से कुछ तो मुक्ति मिल जाए. अपने दायरे में ही रह कर जितना हो सके सुख बटोर ले. बस, यही इच्छा थी उन की.

‘‘कोई नजला नहीं, कोई जुकाम नहीं, पर बूआ से आप आज उन के कमरे में मिल ही लीजिए,’’ चमकी चमक कर कह रही थी.

‘‘भई, ऐसी क्या बात है कि हमें वहां जाना पड़ेगा? तबीयत तो ठीक है न?’’

‘‘आप वहां जाइए तो पहले, तभी तो पता लगेगा,’’ चमकी ने जोड़ा.

‘‘भाभी, राधिका भाभी, बात क्या है? क्या बहुत बीमार है वह?’’ उस तरफ जातेजाते डा. शर्मा बोले.

पीछे से राधिका आ गई. कुछ रास्ता रोकते हुए बोली, ‘‘नहीं, दीदी एकदम ठीक हैं. चमकी शरारत कर रही है.’’

‘‘अरे, एक लेडी के कमरे में बिना इजाजत जाने को कह रही है, आखिर माजरा क्या है?’’ उन्होंने पूछा.

‘‘क्या, बिना इजाजत वहां नहीं जा सकते आप?’’ चमकी ने आश्चर्य प्रकट किया.

‘‘एकदम नहीं, आखिर जैंटलमैन हूं मैं.’’

‘‘कायर हैं कायर, डरते हैं बूआ से,’’ चमकी ने चैलेंज किया.

‘‘ओके, जाता हूं,’’ डा. बोले और चंद्रा के कमरे के द्वार पर खड़े हो कर दरवाजा पर खटखटा कर अंदर आने की आज्ञा मांगी. फिर थोड़ा रुक कर उन्होंने भीतर प्रवेश किया.

ये भी पढ़ें- मोह का जाल: भाग-1

साथ ही राधिका और चमकी भी पीछेपीछे घुसीं. देखा, उन की तरफ पीठ कर के वे खिड़की के पास खड़ी हैं. शायद रो भी रही हैं.

‘‘क्या हुआ?’’ डाक्टर ने राधिका से फुसफुसा कर पूछा.

सलवारसूट की तरफ इशारा कर के राधिका बोली, ‘‘परिवार के सब लोगों ने बड़ा मजाक उड़ाया है इन का. मैं ने समझाबुझा दिया था. अब चमकी की नासमझी से फिर बिफर पड़ी हैं ये शायद.’’

उलटे पैर डा. कैप्टन शर्मा बाहर निकल गए. चमकी भी बाहर आ गई, बोली, ‘‘डर गए न डाक्टर चाचा?’’

गंभीर हो कर कैप्टन शर्मा बोले, ‘‘हरेक आदमी की अपनी प्राइवेसी होती है. उस को तोड़ना अनुचित ही नहीं, बल्कि शर्म की बात भी है. वह जब उचित समझेगी, और मुझे यदि उपयुक्त समझेगी तो खुद ही बातचीत करने के लिए बाहर आएगी.’’

‘‘आप का यह संदेश मैं उन्हें दे आऊं? वे तो बाहर आने से रहीं.’’

‘‘तुम जाओ, चमकी, अपना काम करो.’’

‘‘आज कोई गपशप?’’

‘‘आज मैं किसी का इंतजार कर रहा हूं. इसलिए आज गपशप नहीं.’’

अनजान सी कुछ देर खड़ी रह कर चमकी वापस लौट गई.

डा. कैप्टन शर्मा की आवाज सुनते ही जो रुलाई फूट पड़ी थी, उस से चंद्रा लाज से गड़ी जा रही थी. लेकिन जब वे दरवाजे से लौट गए तो अचानक उस ने उन के प्रति बड़ी कृतज्ञता का अनुभव किया. बाहर जा कर मानो उन्होंने उसे एक बड़ी शर्म से बचा लिया. अब बाहर वे उस की प्रतीक्षा कर रहे हैं, क्यों?

राधिका उसे कमरे में अकेला छोड़ कर जा चुकी थी. चंद्रा अनिश्चित दशा में कुछ देर चुप खड़ी रही, फिर पानी से मुंह धो कर रसोई में राधिका के पास आ बैठी. चाय का कप उसे पकड़ा कर राधिका ने कहा, ‘‘जाओ, डाक्टर साहब को दे आओ.’’

‘‘मैं?’’

‘‘हां, क्यों?’’

‘‘इन कपड़ों में?’’

‘‘यदि कपड़े बदलने जाओगी, तो न तो चाय पीने के काबिल बचेगी और न तुम चाय ले कर जाने के काबिल बचोगी.’’

‘‘भाभी, क्या कह रही हैं आप.’’

‘‘कुछ कदम आगे बढ़ते हैं तो कुछ को पीछे छोड़ कर ही बढ़ते हैं. इसी तरह कुछ धारणाएं टूटती हैं तो कुछ बनती भी हैं. अब सलवारसूट पहन कर आगे बढ़ी हो, तो बैठक में जा कर चाय पेश करना भी सीखो.’’

चाय की ट्रे ले कर धीरेधीरे कदम बढ़ाती, सिर झुकाए, चंद्रा ने जब बैठक में प्रवेश किया तो सोफा छोड़ कर कैप्टन शर्मा अदब से मिलिटरी कायदे के अनुसार खड़े हो गए. और तब तक खड़े रहे, जब तक चंद्रा सोफे पर नहीं बैठ गई.

‘‘मैं कैप्टन शर्मा हूं. बिहारी परिवार का फैमिली डाक्टर,’’ उन्होंने अपनेआप को परिचित कराया.

पीछेपीछे राधिका भी कमरे में आ गई थी. हंस कर उस ने अपनी ननद का परिचय डाक्टर से कराया.

‘‘बहुत दिनों से आशा लगा रखी थी कि तुम्हें कभी नजला या कभी जुकाम हो तो मुझे याद किया जाए, लेकिन हमेशा मुझे निराशा ही हाथ लगी.’’

चंद्रा सिर झुकाए मुसकराती रही.

‘‘मैं बातें किए जा रहा हूं. तुम कोई जवाब ही नहीं देतीं. यह तो बड़ा जुल्म है.’’

चंद्रा जानती थी कि डाक्टर साहब के व्यक्तित्व में एक चुंबकीय आकर्षण है. शायद इसीलिए वह सदैव अपने को उन से दूर रखती आई थी. आज भी वह ठीक उन के सामने बैठी चुंबक के सामने पड़े लोहे की तरह छटपटा रही थी कि बांके बिहारी ने कमरे में प्रवेश कर के खामोशी तोड़ दी.

ये भी पढ़ें- दुष्चक्र: भाग-2

‘‘क्या मौके पर आए हो,’’ डाक्टर साहब बोले, ‘‘मैं चंद्रा के साथ सामने पार्क में घूमने जा ही रहा था,’’ डा. साहब अब उठ कर खड़े हो चुके थे, ‘‘अब आ ही गए हो तो तुम से भी इजाजत ले लेता हूं.’’

‘‘पी कर आए हो?’’ आश्चर्य से बांके बोले, ‘‘भले घर की स्त्रियां क्या पराए मर्दों के साथ घूमने जाती हैं?’’

‘‘जानता था, तुम यही कहोगे,’’ डाक्टर साहब हंस पड़े, ‘‘आज इन्होंने पहली बार सलवारसूट पहना है. बाहर घूमने के लिए तो इन्हें निकलना ही है. तुम तो ले कर जाओगे नहीं. तुम्हें छोड़ कर भाभी जाएंगी नहीं. बच्चे दोनों पहले से ही अपनेअपने गु्रप के साथ वहां पहुंच चुके होंगे. अब कौन बचा, मैं ही?’’

चंद्रा शर्म से गड़ी जा रही थी. वह कमरे से बाहर जाने के लिए खड़ी हुई. डाक्टर बोले, ‘‘तुम बहुत सुंदर लग रही हो. बहुत जंच रहा है तुम पर यह सलवारसूट. घूमने तो हम लोग साथ चलेंगे ही, चाहे इस के लिए मुझे बांके बिहारी को साला ही क्यों न बनाना पड़े.’’

एक बार फिर सब सकते में आ गए.बाहर की ओर जातेजाते चंद्रा के कदम थम गए. सोचने लगी, ‘कहीं यह उस का कोई दूसरा मजाक तो नहीं है?’ पर नहीं, डा. कैप्टन शर्मा चंद्रा के एकदम नजदीक आ खड़े हुए, ‘‘चंद्रा, क्या मुझे अपना जीवनसाथी चुनना स्वीकार करोगी.’’

एक भयभीत सी नजर चंद्रा ने अपनी भाभी पर डाली.

राधिका बोली, ‘‘डाक्टर बाबू, उन के भैया से तो पहले इजाजत ले लीजिए.’’

‘‘अरे, वह साला क्या इजाजत देगा, साला है न. इजाजत तो मुझे चंद्रा की चाहिए. हम दोनों बालिग हैं. इजाजत न  देगा, तो भाग निकलेंगे. यह गली छोड़ कर दूसरी गली में बस जाएंगे.

कोई कुछ बोले, उस से पहले ही आगे बढ़ कर राधिका ने डाक्टर साहब के हाथ में चंद्रा का हाथ रख दिया.

इस घटना के अरसे बाद तक चमकी उस सलवारसूट के करामाती किस्से सुनाती रही. जब भी उस की किसी सहेली के लिए रिश्ता आता, चमकी उस को सलवारसूट ही पहनने की सलाह देती, ‘‘देखो, सलवारसूट की ही वजह से तो मेरी 50 वर्षीया बूआ के हाथ पीले हुए.

ये भी पढ़ें- ज्योति से ज्योति जले: भाग-2

Tags:
COMMENT