सुधा बहुत दिनों से राजेश्वर में एक प्यारा सा बदलाव देख रही थी. धीरगंभीर राजेश्वर आजकल अनायास मुसकराने लगते, कपड़ों पर भी वे विशेष ध्यान देते हैं. पहले तो एक ड्रैस को वे 2 व 3 दिनों तक औफिस में चला लेते थे, पर अब रोज नई ड्रैस पहनते हैं. हमेशा अखबार या टीवी की खबरों में डूबे रहने वाले राजेश्वर अब बेटे द्वारा गिफ्ट किया सारेगामा का कारवां में पुराने गाने सुनने लगे थे.

सुधा भी सारी जिम्मेदारियां खत्म होने पर राहत महसूस कर रही थी. वह सोच रही थी राजेश्वर में भी बदलाव का यही कारण था. सुधा को एक ही दुख था कि राजेश्वर उस से रूठेरूठे रहते हैं. वह जानती थी कि इस में सारी गलती पति की नहीं है पर वह भी तो उस समय पूरे घर की जिम्मेदारियों में डूब कर राजेश्वर के मीठे प्रस्तावों को अनदेखा कर दिया करती थी.

राजेश्वर के औफिस जाने के बाद सुधा चाय का कप लिए सोफे पर आ बैठी. काम वाली बाई को 11 बजे आना था. चाय पीतेपीते सुधा अतीत की लंबी गलियों में निकल पड़ी.

20 साल की उम्र में म्यूजिक विषय के साथ बीए किया था. वह कालेज की लता मंगेशकर कहलाती थी. वह बहुत भोली, नम्र भी थी. संगीत विषय में एमए करना चाहती थी. पर मातापिता विवाह के लिए पात्र देखने लगे. ऐसे में राजेश्वर का रिश्ता आ गया. वे सरकारी नौकरी में उच्च अधिकारी थे. पिता नहीं थे. विरासत में

2 हवेलियां मिली थीं. एक भाई, 2 बहनें, मां, भरापूरा परिवार. वे बस, घरेलू लड़की जो घरपरिवार को संभालने और बांध के रखने में सक्षम हो, चाहते थे. दानदहेज की कोई डिमांड नहीं थी.

सुधा के परिवार को रिश्ता भा गया. बस, 20 साल की उम्र में सुधा दुलहन बन राजेश्वर की बड़ी हवेली में आ गई. पायल की रुनझुन और चूडि़यों की खनखनाहट से राजेश्वर का दिल धड़क उठा. सब ने अनुरोध कर के 4 दिनों के लिए दोनों को मसूरी घूमने भेजा. बस, उस के बाद सुधा के सिर पर जिम्मेदारियों का भारी ताज पहना दिया गया.

अब पारिवारिक जिम्मेदारी और सब को खुश रखना, बस ये 2 बातें ही सुधा के जेहन में रह गईं, बाकी सब भूल गई. पूरे घर का काम उस के नाजुक कंधों पर आ गया. सास, गठिया वात की मरीज, देवर और ननदों पर पढ़ाई का जोर. बस, सुधा ही सारा दिन नाचती रहती. कभीकभी ननदों का सहयोग मिल जाता, तो कुछ आराम मिल जाता.

रिश्तेदारों के सामने जब घर वाले सुधा की खुल कर तारीफ करते तो सुधा फूली न समाती. सास की बहूबहू, ननदों और देवर की भाभीजीभाभीजी और राजेश्वर की सुधासुधा की आवाजों से हवेली मुखरित रहती. सुधा तो ससुराल में ऐसी रम गई कि अपनेआप को ही भुला बैठी.

ये भी पढ़ें- वह बदनाम लड़की

राजेश्वर रात को बड़ी बेताबी से सुधा की राह देखते पर सुधा को तो 11 बजे तक बरतन धोने, अगले दिन के खानेनाश्ते के मेनू बनाने, दही जमाने से फुरसत न मिलती. खीझ कर राजेश्वर सो जाते. वे भी औफिस से थक कर आते थे.

कभी 11 या 12 बजे तक सुधा को फुरसत मिल भी जाए तो वह मसाले और हींग की बास मारते कपड़े पहने राजेश्वर की बगल में जा लेटती. गुस्से में भरे वे या तो सोफे पर जा लेटते या मुंह फेर कर सो जाते. भोली और सीधी सुधा कभी यह न समझ पाई कि अपनी ससुराल की कश्ती खेतेखेते वह अपनी सोेने सी गृहस्थी को डुबोती जा रही है. इसी दौरान बेटा भी हो गया.

मुश्किल से 40 दिन आराम कर के फिर कोल्हू के बैल जैसी जुट गई. धीरेधीरे जिम्मेदारियां बढ़ती गईं. ननदों और देवर की शादियों की सारी जिम्मेदारी सुधा और राजेश्वर पर थी. वे अकेले कमाने वाले थे. अब देवर की नौकरी लग गई तो उस की भी शादी कर दी. सास का देहांत हो चुका था.

देवरानी के चाव भी सुधा को पूरे करने पड़े. वह नए जमाने की लड़की थी. सुधा जैसा ठहराव उस में न था. घरपरिवार के कामों में न तो रुचि और न ही बहू होने के कर्तव्य का एहसास था. सुधा चुपचाप लगी रहती. देवरानी बहाना बना किचन से निकल जाती. सुधा घर की बड़ी बहू के एहसास में दबी कुछ न कहती.

ननदों और उन की ससुराल से आने वालों की कैसे खातिरदारी करनी है, क्या लेनादेना है, सारी सिरदर्दी सुधा की थी. देवरानी तो सजधज के मेहमानों से बतियाने में चतुर थी.

देवर ने बड़ी होशयारी से बड़े भाई राजेश्वर को खुद के छोटी हवेली में जाने को मना लिया. देवरदेवरानी छोटी हवेली में शिफ्ट हो गए. बेटा अतुल 12वीं कर इंजीनियरिंग कालेज चला गया था. अचानक फोन की आवाज से सुधा वर्तमान में लौट आई. उस की भतीजी अंजू का फोन था. वह वकील थी और इसी शहर में रहती थी.

इतनी दौड़भाग में सुधा समय से पहले ही बुजुर्ग लगने लगी. एक दिन राजेश्वर के किसी खास मित्र के घर में पार्टी थी. सुधा को आग्रह कर आने को कहा था. सुधा अपनी ओर से बहुत सलीके से तैयार हो कर गई थी, पर चेहरा आभाहीन था, बालों में सफेदी झांकने लगी थी. वहां जा कर सब के बीच उसे बड़ा अटपटा लगने लगा. राजेश्वर के सुदर्शन व्यक्तित्व के सामने वह बहुत ही फीकी दिख रही थी. सभी लोगों की निगाहें उस पर थीं, आखिर सुधा उन के बौस की पत्नी थी. कुछ महिलाओं ने तो यह कह दिया कि मैडम, आप अपना ध्यान नहीं रखतीं, इतनी छोटी उम्र में बुजुर्ग लगने लगी हो. यह सुन वह झेंप गई. राजेश्वर भी खिसियाने से हो गए.

राजेश्वर उस से खिंचेखिंचे से रहने लगे थे. भोली सुधा सोचती, मैं तो उन के घरपरिवार की सेवा ही करती रही, फिर भी मुझ से अलगाव क्यों? समय का पहिया आगे बढ़ गया था. अतुल की पढ़ाई खत्म हो गई थी. मुंबई की एक कंपनी में नौकरी भी लग गई थी.

औफिस की 4 दिनों की छुट्टी थी. सुधा का मन हुआ कि अब बेटा भी नौकरी कर आत्मनिर्भर हो गया है. उस की ओर से बेफिक्री हो गई है. कहीं घूमने का प्लान करते हैं. शायद राजेश्वर को भी थोड़ा बदलाव चाहिए. बेचारे घरपरिवार के कारण जीवन के वो लुत्फ न उठा पाए जो उन्हें मिलने चाहिए थे. देर न करते हुए उस ने शाम की चाय के बाद इन छुट्टियों में अपने दोनों की घूमने की प्लानिंग बताई. राजेश्वर कुछ देर चुप रहे, फिर ठंडे स्वर में बोले, ‘‘शुक्र है तुम्हें घरपरिवार से हट कर कुछ सूझा तो सही, पर माफ करना मैं बताना भूल गया, मेरा कुछ दोस्तों के साथ गोवा जाने का प्रोग्राम बन चुका है. कल सवेरे मुझे निकलना है.’’ यह सुन सुधा चुप रह गई.

राजेश्वर गोवा के लिए निकल गए. सुधा को एकाएक घर बहुत सूना लगने लगा. वह औटो कर छोटी हवेली देवरानी के घर चली गई. छोटी हवेली की साजसज्जा देख हैरान रह गई. उसे अपने घर की याद आई, बाबा आदम के जमाने का सोफा जो सास के समय से चला आ रहा था. पुराने समय की सजावट जिसे ठीक करने का सुधा और राजेश्वर के सिर पर जिम्मेदारियों के बोझ के रहते न तो समय मिला, न पैसा था जो कुछ कर पाते.

देवरानी किसी महारानी की तरह सजधज कर मैगजीन पढ़ रही थी. सुधा अपनी मामूली सी साड़ी की सिलवटें ठीक करने लगी. एक कृत्रिम मुसकराहट के साथ देवरानी गले लग गई. देवर बाहर गए थे. औपचारिक बातचीत होती रही. लंच के समय देवर भी आ गए. भाभी को अभिवादन कर भाई के बारे में पूछने लगे. सुधा ने जब दोस्तों के साथ गोवा जाने की बात कही, तो हैरान हो गए, बोले, ‘‘मैं तो भैया के सारे दोस्तों को जानता हूं. वे सब तो यहीं शहर में हैं. अभीअभी तो बाजार में ही मिले थे. पता नहीं कौन से दोस्त साथ गए हैं?’’

तभी खाना लग गया. घर में एक स्थायी मेड रखी थी. वह सारा काम देखती थी. उस ने कई तरह के व्यंजन टेबल पर सजा दिए. सुधा हैरान रह गई. शाम को देवर सुधा को कार से घर छोड़ने जाने लगा तो सुधा के मन में एक टीस सी उठी, वह घर पर अकेली थी, एक बार भी रात को रुकने को नहीं कहा. निराश सी कार में बैठ गई. जिस देवर को छोटे भाई की तरह रखा, वह समय के साथ कैसे बदल गया. इन लोगों के लिए मैं ने अपना जीवन कुरबान कर दिया. कोई मेरा न हुआ.

घर आ कर चाय बना कर बैठी ही थी कि मुंबई से बेटे अतुल का फोन आ गया. कुछ नाराज सी आवाज में बोला, ‘‘मम्मी, पापा क्या गोवा गए हैं?’’ सुधा ने हामी भरी तो वह बोला, ‘‘पापा ने मुझे एक फोन तक नहीं किया, मिलना तो दूर. और मां, वे किस के साथ गए हैं? मेरा दोस्त मनीष, पापा को जानता है. वह कह रहा था कि उन के साथ कोई महिला थी. जब उस ने पापा को दूर से अभिवादन किया तो वे उठ कर बाहर चले गए.’’

सुधा बोली, ‘‘किसी दोस्त की बीवी होगी या टेबल शेयर किया होगा.’’

बेटे के फोन से सुधा तनावग्रस्त हो गई. रातभर सोचती रही. दिन काटे नहीं कट रहे थे. 2 बार राजेश्वर को फोन लगाया पर फोन स्विचऔफ था. अगले दिन शहर में रहने वाली भतीजी को बुला लिया. वह वकील थी, फिर भी दोपहर बाद अपना लैपटौप ले कर आ गई. यहीं से काम करती रही, बूआ से बातचीत भी करती रही.

सुधा ने अपने मन की दुविधा अंजू को कह सुनाई. अंजू बोली, ‘‘बूआजी, फूफाजी ऐसा कुछ करेंगे, लगता तो नहीं पर आजकल कोर्ट में ऐसेऐसे केस आ रहे हैं कि कभीकभी शादी जैसे पवित्र बंधन पर प्रश्नचिह्न लग जाते हैं. आप अपनी किसी हौबी को फिर से शुरू करो. इस प्रकार खाली रहने से मन आशंकाओं से घिर जाता है. फिर भी कभी मेरी जरूरत पड़े तो याद करना. मैं शहर में ही हूं.’’

सुधा का मन कुछ शांत हुआ. बूआभतीजी मिल कर बाजार गईं, चाटपकौड़ी खाई. सुधा ने अपना सालों पुराना हारमोनियम ठीक करवाया. सालों बाद सुर लगाने की कोशिश करने लगी. पर सुर ठीक नहीं लग पा रहे थे. सुधा मायूस हो गई. भतीजी अंजू ने समझाया, ‘‘बूआ, कोईर् भी हुनर हो, सालोंसाल छोड़ दो तो यही होता है. मन शांत कर अभ्यास करिए, सब हो जाएगा.’’

अगले दिन सवेरे अंजू चली गई. शाम तक राजेश्वर आ पहुंचे. सुधा भरी बैठी थी. चाय दे कर मौके की तलाश में बैठ गई. चाय पी कर राजेश्वर सुस्ताने बैठे ही थे कि सुधा का रोष फूट पड़ा, बोली, ‘‘क्या मैं पूछ सकती हूं आप किन दोस्तों के साथ गोवा गए थे.’’

अचानक राजेश्वर बौखला गए, बोले, ‘‘क्यों? मेरे हर दोस्त को तुम जानती हो जो बताऊं?’’ अपना पक्ष मजबूत करते हुए आगे बोले, ‘‘तुम्हें सारे दिन किचन में रहना अच्छा लगता, तो मैं भी घर में कैद हो जाऊं?’’

सुधा आक्रोश से भर उठी, ‘‘आप के दोस्त तो सारे यहीं थे, आप किस के साथ गए थे? अतुल के दोस्त ने आप को किसी महिला के साथ देखा था, वह कौन थी?’’

पोल खुलती देख स्वर को ऊंचा कर के राजेश्वर बोले, ‘‘रही न कुएं की मेढक, तुम जैसी औरतों से तो बस दालसब्जियों के मोलभाव करवा लो, बाहर की दुनिया क्या जानो. एक मित्र मिल गया था, उस की पत्नी थी वह, समझीं.’’ वे आगे बोले, ‘‘मेरी जासूसी करने से अच्छा है कुछ रहनेसहने व पहनेओढ़ने के तौरतरीके सीख लेतीं तो पढ़ीलिखी महिलाओं के बीच खड़ी होने योग्य हो जातीं.’’ यह कह कर राजेश्वर बाहर निकल गए.

सुधा के स्वाभिमान पर गहरी चोट लगी थी, बेबसी पर आंसू छलक आए. आहत सी वह डिनर बनाने लग गई. रात के 12 बज गए. पति का अतापता नहीं था. सुधा समझ गईर्, दाल में कुछ काला है. थोड़ी देर में राजेश्वर आ गए. कपड़े बदल, तकिया उठा दूसरे बैडरूम में चले गए.

सुधा रातभर अपने बैडरूम में लेटी सोचती रही, समय के साथ मैं ही न बदली, सब बदल कर उस से दूर हो गए. अब अपने को बदल के खुद को पति के मुकाबले का बनाऊंगी. पूरी रात सुधा ने रोते हुए काटी. सवेरे उठ किचन में लग गई. राजेश्वर बड़े बेमन से नाश्ता कर औफिस निकल गए.

सुधा ने पति की अटैची खोली. कपड़े धोने के लिए निकालने लगी. अचानक रामेश्वर के टौवल में से एक पीला सिल्क का ब्लाउज गिरा. सुधा ने ब्लाउज को अपनी अलमारी में रख दिया.

शाम को जब चाय पी कर राजेश्वर टीवी देखने लगे तो सुधा भी वहीं आ गई. वह बोली, ‘‘आप को जो दोस्त की पत्नी वहां मिली थी वह क्या अपना ब्लाउज भी आप की अटैची में डाल गई थी.’’ यह कह उस ने ब्लाउज उन के आगे रख दिया.

ब्लाउज देख राजेश्वर शर्मिंदा हो गए पर ऊंची आवाज से सुधा को डांटने लगे. लेकिन जब बदले में सुधा ने खरीखोटी सुनाई तो स्वर बदल कर बोले, ‘‘देखो सुधा, तुम मेरे योग्य न कभी थीं. न भविष्य में होगी. तुम ने सारी जिंदगी किचन में गुजार दी. अब मैं अपने अनुसार जीना चाहता हूं. मैं तुम्हें घर से जाने को नहीं कहता. जैसे पहले रहती थीं, रहती रहो. पर मुझे मेरे अनुसार जीने दो.’’ यह कह कर उठ खड़े हुए.

सुधा बोली, ‘‘लेकिन मैं ने तो अपना सारा जीवन आप के परिवार पर कुरबान कर दिया.’’ इस पर राजेश्वर बोले, ‘‘यह करने को मैं ने तुम्हें मजबूर नहीं किया था. गरिमा मेरी पुरानी मित्र हैं. उन्होंने शादी नहीं की थी. वे और मैं बचपन से एकसाथ पढ़े और बड़े हुए. पिताजी ने मेरी मंशा जाने बिना न जाने क्यों तुम से मेरा रिश्ता तय कर दिया. अब मैं गरिमा का साथ चाहता हूं.’’

यह सुनते ही सुधा के दिल में सैकड़ों तीर एकसाथ घुस गए, बेहोशी सी आने लगी, किसी तरह लड़खड़ाती बिस्तर तक पहुंची और कटे पेड़ सी गिर पड़ी.

ये भी पढ़ें- मैं शटर गिरा रहा हूं, दुकान बंद !

2 दिनों बाद रक्षाबंधन था. बड़ी हवेली में ही सब आते और यहीं राखी मनाई जाती. वह बेताबी से रक्षाबंधन का इंतजार करने लगी. उसे पूरा भरोसा था सब उसी का साथ देंगे. उस की सेवा और पूरे परिवार के लिए समर्पण किसी से छिपा न था. बेटा अतुल भी आने वाला था. राजेश्वर की प्रेमकहानी उसी दिन सुनाई जाएगी.

रक्षाबंधन वाले दिन सवेरे उठ कर सुधा ने पकवान और खाना बना कर रख दिया. देखतेदेखते सभी आ गए. राखी बांध कर बहनें नेग के लिए सुधा की ओर देखने लगीं. पर सुधा चुप बैठी रही. उस ने देवरानी को भोजन परोसने को कहा तो सब हैरान रह गए. सौसौ मनुहार से खाना खिलाने वाली सुधा को क्या हो गया? खाने के बाद सुधा ने चुप्पी तोड़ते हुए कहा, ‘‘आज सब के सामने अपनी एक समस्या बता रही हूं. कृपया, मुझे आज इस का कोई समाधान बताएं.’’ यह कह कर सुधा ने राजेश्वर की सारी प्रेमकहानी आरंभ से अंत तक सुना दी.

इस बीच न जाने कब राजेश्वर उठ कर बाहर चले गए. कुछ देर कमरे में सन्नाटा पसरा रहा. फिर बड़ी ननद बोली, ‘‘भाभी, इस उम्र में आप को भैया पर यही लांछन लगाने को मिला था.’’ छोटी ननद बोली, ‘‘भैया इतने बड़े ओहदे पर हैं आप तो उन के पद की गरिमा भी भूल गई हैं. आप उन के सामने क्या हैं? उन के मुकाबले में कुछ भी नहीं, फिर भी भैया को आप से कोई शिकायत नहीं है.’’

सुधा ननदों की बातें सुन कर हैरान हो रही थी कि देवर बोला, ‘‘भाभी, मेरे राम जैसे भाई पर इलजाम लगाते शर्म न आई.’’ देवरानी मुंह में पल्लू दिए अपनी हंसी को भरसक दबाने की कोशिश कर रही थी. बस, अतुल ही सिर नीचा किए बैठा था.

अब सुधा का धैर्य जवाब दे गया. वह सोचने लगी, ये वही ननदें, देवर और पति हैं जिन की सेवा में मैं ने खुद को भुला दिया. जिन के लिए मैं ने अपने संगीत, रूपरंग की बलि चढ़ा दी. मेरे अस्तित्व और स्वाभिमान पर इतना बड़ा आघात. अपने गहने, कपड़े, सेवाएं दे कर आज तक इन की मांगें पूरी करती आई हूं.

सब बहाने से उठ कर जाने लगे तो सुधा तिलमिला उठी, बोली, ‘‘तो सुनिए आप के उसी राम सदृश्य भाई ने मेरे साथ विश्वासघात किया है. आज मैं ने भी उन से तलाक ले कर अलग रहने का फैसला लिया है.’’ सुधा को उम्मीद थी कि सब मुझे मनाने आगे आएंगे.

अभी वह यह सोच ही रही रही थी कि राजेश्वर की आवाज आई, ‘‘आज सब राखी का नेग ले कर नहीं जाएंगे?’’ देखतेदेखते राजेश्वर ने 500 रुपए के नोट की गड्डी निकाली. बहनों के साथ छोटी भाभी को भी रुपए दिए. नेग ले कर सब घर जाने को तैयार हो गए. सुधा मूर्ति की तरह बैठी रही.

जातेजाते ननदें सुधा को गीता का ज्ञान देने लगीं, ‘‘भाभी बुजुर्ग हो गई हो, बेतुकी बातें बोलना छोड़ समझदार बनो.’’ देवर भी कहां पीछे रहने वाले थे, बोले, ‘‘इस उम्र में तलाक ले कर पूरे खानदान का नाम रोशन करोगी क्या?’’ और पत्नी का हाथ पकड़ निकल गए.

अतुल ही खिन्न सा बैठा रहा. सब के जाते ही घर में मरघट सा सन्नाटा पसर गया. अतुल भी घर में आने वाले भयंकर तूफान के अंदेशे से बचने के लिए घर से बाहर निकल गया.

अब सुधा और राजेश्वर दोनों ही सांप और नेवले की तरह एकदूसरे पर आक्रमण करने लगे. सुधा अपनी सेवाओं और घर के लिए की कुरबानियों की दुहाई देती रही तो राजेश्वर उस की पत्नी के रूप में नाकाबिलीयत के किस्से सुनाते रहे.

राजेश्वर ने आखिरकार सोचा, सुधा तलाक की गीदड़ भभकी दे रही है. जाएगी कहां? मायके में एक भाईभाभी रह गए थे. वे भी जायदाद बेच कर विदेश जा बसे. पढ़ाईलिखाई में कुछ खास न तो डिगरी ही है, न 46 की उम्र में कोईर् नौकरी के योग्य है. इसलिए सुधा से मुखातिब हो कर बोले, ‘‘जो जी में आए करो. तुम्हारी योग्यता तो बस किचन तक की है. यह तुम भी जानती हो.’’

सुधा तिलमिला कर बोली, ‘‘मैं ग्रेजुएट हूं, संगीत जानती हूं. तुम ने मेरे स्वाभिमान को ललकारा है और कुरबानियों को नकारा है. अब क्या तुम्हें ऐसे ही छोड़ दूंगी, गुजाराभत्ता भी लूंगी और हवेली में हिस्सा भी. मेरा बेटा है अपने दादा की जायदाद पर उस का भी हक है.’’

यह सुन राजेश्वर सन्न रह गए. पैर पटकते घर से बाहर चले गए. सुधा सिर से पैर तक सुलग रही थी. उस ने अंजू को फोन कर बुलवा लिया. अंजू आ गई तो उस ने सारी बातें कह सुनाईं.

अंजू बोली, ‘‘अच्छी तरह सोचसमझ लो बूआ. एक बार तलाक की अर्जी लग गई, फिर लौटने पर किरकिरी होगी.’’

सुधा बोली, ‘‘सब स्वार्थ से मेरे साथ जुड़े थे. स्वार्थ खत्म होते ही दूर हो गए. तुम अर्जी लगा दो.’’

अतुल घर आ गया था. यह सब जान कर बोला, ‘‘मां, अकेले रह लोगी न? मुझे आप से कोई शिकायत नहीं है. आप के साथ अन्याय तो हुआ है पर मैं पापा को भी नहीं छोड़ूंगा. वैसे भी मम्मी, मैं ने अपनी एक सहपाठिन से विवाह करने का मन बना लिया है. आप दोनों के पास आताजाता रहूंगा. शादी कोर्ट में करूंगा.’’

अतुल की व्यावहारिकता देख सुधा हैरान रह गई. काश, उस के पास भी ऐसी व्यावहारिक बुद्धि होती तो वह समय रहते संभल जाती और अपनों से न छली जाती.

तलाक की अर्जी पर राजेश्वर ने भी साइन कर दिए. वे गरिमा के साथ सुखमय जीवन के सपने देखने लगे. पहली पेशी पर जज द्वारा कारण पूछे जाने में दोनों ने खुल कर एकदूसरे की कमियों का बखान किया. जज ने समझौते के लिए 6 महीने का समय दिया. सुधा को 40 हजार रुपए गुजारे भत्ते और हवेली के पिछले हिस्से में रहने का अधिकार मिला. बाद में विधिवत म्यूचुअल तलाक हो गया. राजेश्वर गरिमा के फ्लैट में शिफ्ट हो गए.

अब सुधा को अपनेपराए की पहचान हो गई. सेवाभाव, परिवार के लिए त्याग, बलिदान की नाकामी का एहसास अच्छी तरह हो गया. सब से बड़ी सीख सुधा को यह मिली कि इस जीवन में उस ने अपने वजूद को, गुणों को, रूपरंग को दांव पर लगा कर जो फैसले किए वे गलत थे. चाहे जितनी सेवा कर लो, परिवार के लिए कुरबानी दे दो पर अपने वजूद को दरकिनार न करो. अब वह अपनी बाकी जिंदगी को संवारने के लिए कटिबद्ध हो गई. 2 कमरे, 4 लड़कियों को किराए पर दे दिए. रौनक भी रहेगी और कुछ आमदनी भी हो जाएगी. कालेज के रिटायर्ड संगीत सर के घर जा नियमित रियाज करना शुरू कर दिया. कुछ ही समय बाद संगीत सम्मेलनों में अपने गुरुजी के साथ जा कर शिरकत भी करने लगी.

ये भी पढ़ें- शादीलाल की ससुराल यात्रा

समय का पहिया आगे निकल गया था. एक दिन सुधा एक संगीत प्रोग्राम में जजमैंट करने आ रही थी कि उस की कार लालबत्ती पर रुक गई. कार की खिड़की से बाहर देखने पर सड़कपार किसी डाक्टर के क्लिनिक से राजेश्वर एक युवक का सहारा लिए निकल रहे थे. एकदम कमजोर हो चुके थे. आसपास गरिमा या कोई और नहीं था. तभी हरी बत्ती हो गई. गाड़ी बढ़ गई.

Tags:
COMMENT