उस दिन मणिकांत का मन अशांत था. आजकल अकसर रहने लगा है, इसीलिए दफ्तर में देर तक बैठते हैं. हालांकि बहुत ज्यादा काम नहीं होता है, परंतु काम के बहाने ही सही, वे कुछ अधिक देर तक औफिस में बैठ कर अपने मन को सुकून देने का प्रयास करते रहते हैं. दफ्तर के शांत वातावरण में उन्हें अत्यधिक मानसिक शांति का अनुभव होता है. घर उन्हें काटने को दौड़ता है, जबकि घर में सुंदर पत्नी है, जवान हो रहे 2 बेटे हैं. वे स्वयं उच्च पद पर कार्यरत हैं. दुखी और अशांत होने का कोई कारण उन के पास नहीं है, परंतु घर वालों के आचरण और व्यवहार से वे बहुत दुखी रहते हैं.

जिस प्रकार का घरपरिवार वे चाहते थे वैसा उन्हें नहीं मिला. पत्नी उन की सलाह पर काम नहीं करती, बल्कि मनमानी करती रहती है और कई बार तो वे उस की नाजायज फरमाइशों पर बस सिर धुन कर रह जाते हैं, परंतु अंत में जीत पत्नी की ही होती है और वह अपनी सहीगलत मांगें मनवा कर रहती है. उस के अत्यधिक लाड़प्यार और बच्चों को अतिरिक्त सुविधाएं मुहैया कराने से बच्चे भी बिगड़ते जा रहे थे. उन का ध्यान पढ़ाई में कम, तफरीह में ज्यादा रहता था. देर रात जब वे घर पहुंचे तो स्वाति उन का इंतजार कर रही थी. नाराज सी लग रही थी. यह कोई नई बात नहीं. किसी न किसी बात को ले कर वह अकसर उन से नाराज ही रहती थी. वे चुपचाप अपने कमरे में कपड़े बदलने लगे, फिर बाथरूम में जा कर इत्मीनान से फ्रैश हो कर बाहर निकले. पत्नी, बेटों के साथ बैठी टीवी देख रही थी.

वे कुछ नहीं बोले तो पत्नी ने ही पूछा, ‘‘आज इतनी देर कहां कर दी?’’

‘‘बस, यों ही, औफिस में थोड़ा काम था, रुक गया,’’ उन्होंने बिना किसी लागलपेट के कहा.

पत्नी ने कहा, ‘‘मैं कब से आप का इंतजार कर रही हूं.’’

‘‘अच्छा, कोई काम है क्या?’’ उन्होंने कुछ चिढ़ने के भाव से कहा. अब उन की समझ में आया कि पत्नी उन के देर से आने के लिए चिंतित नहीं थी. उसे अपने काम की चिंता थी, इसलिए उन का इंतजार कर रही थी.

‘‘हां, नवल को नई बाइक लेनी है. उस ने देखी है, कोई स्पोर्ट्स बाइक है, लगभग 1 लाख रुपए की.’’

नवल उन का बड़ा लड़का था. एक नंबर का लफंगा. पढ़ाई में कम, घूमनेफिरने और लड़कियों के चक्कर में उस का ध्यान ज्यादा रहता था.

‘‘उस के पास पहले से ही एक बाइक है, दूसरी ले कर क्या करेगा?’’ उन्हें मन ही मन क्रोध आने लगा था.

स्वाति ने बहुत ही लापरवाही से कहा, ‘‘क्या करेगा? आप तो ऐसे कह रहे हैं जैसे बच्चों की कोई जरूरत ही नहीं होती. जवान लड़का है, दोस्तों के साथ घूमनाफिरना पड़ता है. स्टेटस नहीं मेनटेन करेगा तो उस की इज्जत कैसे बनेगी? उस के कितने सारे दोस्त हैं, जिन के पास कारें हैं. वह तो केवल बाइक ही मांग रहा है. पुरानी वाली बेच देगा.’’

‘‘स्टेटस मोटरबाइक या कारों से नहीं बनता, बल्कि पढ़ाई में अव्वल आने और अच्छी नौकरी करने से बनता है. तभी इज्जत मिलती है. मैं हमेशा कहता रहा हूं, बहुत ज्यादा लाड़प्यार से बच्चे बिगड़ जाते हैं, परंतु तुम ध्यान ही नहीं देतीं. अपने बेटों की हम हर  जरूरत पूरी करते हैं, परंतु क्या वे हमारी इच्छा और आकांक्षा के अनुसार पढ़ाई कर रहे हैं? नहीं. बड़ा वाला न जाने कब बीसीए पूरा कर पाएगा. हर साल फेल हो जाता है और छोटा वाला अभी तो कोचिंग ही कर रहा है. प्रेम के क्षेत्र में सभी उत्तीर्ण होते चले जा रहे हैं, परंतु पढ़ाई की परीक्षा में लगातार फेल हो रहे हैं,’’ उन का गुस्सा बढ़ता ही जा रहा था.

‘‘बेकार की भाषणबाजी से क्या फायदा? बच्चों की जरूरतों को पूरा करना हमारा कर्तव्य है. हमारे कमाने का क्या फायदा, अगर वह बच्चों के काम न आए,’’ फिर उस ने चेतावनी देने वाले अंदाज में कहा, ‘‘कल उस को बाइक के लिए चैक दे देना, बाकी मैं कुछ नहीं जानती,’’ पत्नी इतना कह कर चली गई.

वे धम से बिस्तर पर बैठ गए. यह उन की पत्नी है, जिस के साथ वे लगभग 25 वर्ष से गुजारा कर रहे हैं. वे दफ्तर से आए हैं और उस ने न उन का हालचाल पूछा, न चायपानी के लिए और न ही खाने के लिए. यह कोई नई बात नहीं थी. रोज ही वह अपने बेटों की कोई नई फरमाइश लिए तैयार बैठी रहती है और जैसे ही वे दफ्तर से आते हैं, फरमान जारी कर देती है. उस का फरमान ऐसा होता है कि वे नाफरमानी नहीं कर सकते थे. वे ना करने की स्थिति में कभी नहीं होते. पत्नी के असाधारण और अनुचित तर्क उन के उचित तर्कों को भी काटने में सक्षम होते थे. इस का कारण था, वे बहुत भावुक और संवेदनशील थे. उन का मानना था कि जड़ और मूर्ख व्यक्ति के साथ मुंहजोरी करने से स्वयं को ही दुख पहुंचता है.

दूसरी तरफ बेटे उन की नाक में दम किए रहते हैं. जब भी घर पहुंचो, या तो वे टीवी देखते रहते हैं या फिर मोबाइल में किसी से बात कर रहे होते हैं या फिर होमथिएटर में आंखें और कान फोड़ते रहते हैं. इस से छुटकारा मिला तो इंटरनैट में अनजान लड़केलड़कियों से दोस्ती कायम कर रहे होते हैं. इंटरनैट ने भी यह एक अजीब बीमारी फैला दी है कि जिस व्यक्ति को हम जानतेपहचानते नहीं, उस से इंटरनैट की अंधी दुनिया में दोस्ती कायम करते हैं और जो सामने होते हैं, उन को फूटी आंख देखना पसंद नहीं करते. उन के लड़के दुनियाभर के कार्य करते हैं, परंतु पढ़ाई करते हुए कभी नहीं दिखते. उन के समझाने पर वे भड़क जाते हैं, क्योंकि मां की शह उन के साथ होती है.

वेबिस्तर पर लेट कर विचारों में खो गए. मणिकांत 50 की उम्र पार कर रहे थे. अब तक दांपत्य जीवन और पत्नीप्रेम के अटूट बंधन पर उन्हें अति विश्वास था, परंतु अब उन का विश्वास डगमगाने लगा था. उन्हें लगने लगा था कि प्रेम एक ऐसी चीज है जो जीवनभर एकजैसी नहीं रहती है. प्रेम परिस्थितियों के अनुसार घटताबढ़ता रहता है. स्वाति उन्हें कितना प्रेम करती है, वे अब तक नहीं समझ पाए थे, परंतु अब उस के कर्कश और क्रूर व्यवहार के कारण स्वयं को उस से दूर करते जा रहे थे, तन और मन दोनों से. पत्थरों से सिर टकराना बहुत घातक होता है. अब उन्हें यह एहसास हो गया था कि वे व्यर्थ में ही एक ऐसी स्त्री के साथ दांपत्य सूत्र में बंध कर अपने जीवन को निसार बनाते रहे हैं, जो उन के मन को बिलकुल भी समझने के लिए तैयार नहीं थी.

अपनी पत्नी से अब उन्हें एक विरक्ति सी होने लगी थी और जवान हो चुके बच्चों को वे एक बोझ समझने लगे थे. वे जीवनभर न केवल अपना प्यार पत्नी और बच्चों पर लुटाते रहे, बल्कि उन की सुखसुविधा की चिंता में रातदिन खटते रहे. परिवार के किसी व्यक्ति को कभी एक पैसे का कष्ट न हो, इस के लिए वे नौकरी के अतिरिक्त अन्य स्रोतों से भी आय के साधन ढूंढ़ते रहे परंतु उन के स्वयं के हितों की तरफ परिवार के किसी सदस्य ने कभी ध्यान नहीं दिया. पत्नी ने भी नहीं. वह तो बच्चों के पैदा होते ही उन के प्रेमस्नेह और देखभाल में ऐसी मगन हो गई कि घर में पति नाम का एक अन्य जीव भी है, वह भूल सी गई. बच्चों की परवरिश, उन की पढ़ाईलिखाई और उन को जीवन में आगे बढ़ाने की उठापटक में ही उस ने जीवन के बेहतरीन साल गुजार दिए. मणिकांत पत्नी के लिए एक उपेक्षित व्यक्ति की तरह घर में रह रहे थे. वे बस पैसा कमाने और परिवार के लिए सुखचैन जुटाने की मशीन बन कर रह गए.

दांपत्य जीवन के प्रारंभ से ही पत्नी का व्यवहार उन के प्रति रूखा था और कई बार तो उस का व्यवहार अपमानजनक स्थिति  तक पहुंच जाता था. पति की आवश्यकताओं के प्रति वह हमेशा लापरवाह, परंतु बच्चों के प्रति उस का मोह आवश्यकता से अधिक था. बच्चों को वे प्यार करते थे, परंतु उस हद तक कि वे सही तरीके से अपने मार्ग पर चलते रहें. गलती करें तो उन्हें समझा कर सही मार्ग पर लाया जाए, परंतु पत्नी बच्चों की गलत बातों पर भी उन्हीं का पक्ष लेती. इस से वे हठी, उद्दंड होते गए. उन्होंने कभी अगर बच्चों को सुधारने के उद्देश्य के कुछ नसीहत देनी चाही तो पत्नी बीच में आ जाती. कहती, ‘आप क्यों बेकार में बच्चों के पीछे अपना दिमाग खराब कर रहे हैं. मैं हूं न उन्हें संभालने के लिए. अभी छोटे हैं, धीरेधीरे समझ जाएंगे. आप अपने काम पर ध्यान दीजिए, बस.’ अपना काम, यानी पैसे कमाना और परिवार के ऊपर खर्च करना. वह भी अपनी मरजी से नहीं, पत्नी की मरजी से. इस का मतलब हुआ पति का परिवार को चलाने में केवल पैसे का योगदान होता है. उसे किस प्रकार चलाना है, बच्चों को किस प्रकार पालनापोसना है और उन्हें कैसी शिक्षा देनी है, यह केवल पत्नी का काम है. और अगर पत्नी मूर्ख हो तो…तब बच्चों का भविष्य किस के भरोसे? वे मन मसोस कर रह जाते.

पत्नी का कहना था कि बच्चे धीरेधीरे समझ जाएंगे, परंतु बच्चे कभी नहीं समझे. वे बड़े हो गए थे परंतु मां के अत्यधिक लाड़प्यार और फुजूलखर्ची से उन में बचपन से ही बुरी लतें पड़ती गईं. उन के सामने ही उन के मना करने के बावजूद पत्नी बच्चों को बिना जरूरत के ढेर सारे पैसे देती रहती थी. जब किसी नासमझ लड़के के पास फालतू के पैसे आएंगे तो वह कहां खर्च करेगा. शिक्षा प्राप्त कर रहे लड़कों की ऐसी कोई आवश्यकताएं नहीं होतीं जहां वे पैसे का इस्तेमाल सही तरीके से कर सकें. लिहाजा, उन के बच्चों के मन में बेवजह बड़प्पन का भाव घर करता गया और वे दिखावे की आदत के शिकार हो गए. घर से मिलने वाला पैसा वे लड़कियों के ऊपर होटलों व रेस्तराओं में खर्च करते और दूसरे दिन फिर हाथ फैलाए मां के पास खड़े हो जाते. बचपन से ही बच्चों के कपड़ों, स्कूल की किताबों और फीस, उन के खानपान और दैनिक खर्च की चिंता में पत्नी दिनरात घुलती रहती, परंतु कभी यह न सोचती कि पति को भी दिनभर औफिस में काम करने के बाद घर पर एक पल के लिए आराम और सुकून की आवश्यकता है. उन के जीवन में आर्थिक संकट जैसी कोई स्थिति नहीं थी. परंतु अगर कभी कुछ पल या एकाध दिन के लिए ऐसी स्थिति उत्पन्न होती थी, तो उन्होंने बहुत शिद्दत से इस बात को महसूस किया था कि पत्नी का मुंह तब टेढ़ा हो जाता था. वह उन की परेशानी की चिंता तो छोड़, इस बात का ताना मारती रहती थी कि उन के साथ शादी कर के उस का जीवन बरबाद हो गया, कभी सुख नहीं देखा, बस, परिवार को संभालने में ही उस का जीवन गारत हो गया.

तब पतिपत्नी के बीच बेवजह खटपट हो जाती थी. हालांकि वे तब भी चुप रहते थे, क्योंकि पत्नी को उन के वाजिब तर्क भी बुरे लगते थे. इसलिए बेवजह बहस कर के वे स्वयं को दुखी नहीं करते थे. परंतु उन के चुप रहने पर भी पत्नी का चीखनाचिल्लाना जारी रहता. वह उन के ऊपर लांछन लगाती, ‘हां, हां, क्यों बोलोगे, मेरी बातें आप को बुरी लगती हैं न. जवाब देने में आप की जबान कट जाती है. दिनभर औफिस की लड़कियों के साथ मटरगस्ती करते रहते हो न. इसलिए मेरा बोलना आप को अच्छा नहीं लगता.’ पत्नी की इसी तरह की जलीकटी बातों से वे कई दिनों तक व्यथित रहते. खैर, परिवार के लिए धनसंपत्ति जुटान उन के लिए कोई बड़ी मुसीबत कभी नहीं रही. वे उच्च सरकारी सेवा में थे और धन को बहुत ही व्यवस्थित ढंग से उन्होंने निवेश कर रखा था और अवधि पूरी होने पर अब उन के निवेशों से उन्हें वेतन के अलावा अतिरिक्त आय भी होने लगी थी. जैसेजैसे बच्चे बड़े होते गए, उन की जरूरतें बढ़ती गईं, उसी हिसाब से उन का वेतन और अन्य आय के स्रोत भी बढ़ते गए. संपन्नता उन के चारों ओर बिखरी हुई थी, परंतु प्यार कहीं नहीं था. वे प्रेम की बूंद के लिए तरस रहे उस प्राणी की तरह थे, जो नदी के पाट पर खड़ा था, परंतु कैसी विडंबना थी कि वह पानी को छू तक नहीं सकता था. पत्नी के कर्कश स्वभाव और बच्चों के प्रति उस की अति व्यस्तताओं ने मणिकांत को पत्नी के प्रति उदासीन कर दिया था.

उधर, छोटा बेटा भी अपने भाई से पीछे नहीं था. बड़े भाई की देखादेखी उस ने भी बाइक की मांग पेश कर दी थी. दूसरे दिन उसे भी बाइक खरीद कर देनी पड़ी. ये कोई दुखी करने वाली बातें नहीं थीं, परंतु उन्होंने पत्नी से कहा, ‘लड़कों को बोलो, थोड़ा पढ़ाई की तरफ भी ध्यान दिया करें. कितना पिछड़ते जा रहे हैं. सालदरसाल फेल होते हैं. यह उन के भविष्य के लिए अच्छी निशानी नहीं है.’ पत्नी ने रूखा सा जवाब दिया, ‘आप उन की पढ़ाई को ले कर क्यों परेशान होते रहते हैं? उन्हें पढ़ना है, पढ़ लेंगे, नहीं तो कोई कामधंधा कर लेंगे. कमी किस बात की है?’

एक अफसर के बेटे दुकानदारी करेंगे, यह उन की पत्नी की सोच थी. और पत्नी की सोच ने एक दिन यह रंग भी दिखा दिया जब लड़के ने घोषणा कर दी कि वह पढ़ाई नहीं करेगा और कोई कामधंधा करेगा. मां की ममता का फायदा उठा कर उस ने एक मोबाइल की दुकान खुलवा ली. इस के लिए उन को 5 लाख रुपए देने पड़े. परंतु बड़े बेटे की निरंकुशता यहीं नहीं रुकी. उन्हें मालूम नहीं था, परंतु स्वाति को पता रहा होगा, वह किसी लड़की से प्यार करता था. पढ़ाई छोड़ दी तो उस के साथ शादी की जल्दी पड़ गई. शायद उसे पता था कि मणिकांत आसानी से नहीं मानेंगे, तो उस ने चुपचाप लड़की से कोर्ट में शादी कर ली. अप्रत्यक्ष रूप से इस में स्वाति का हाथ रहा होगा.

जिस दिन बेटा बिना किसी बैंडबाजे के लड़की को घर ले कर आया, तो उन की पत्नी ने अकेले उन की अगवानी की और रीतिरिवाज से घर में प्रवेश करवाया. पत्नी बहुत खुश थी. छोटा बेटा भी मां का खुशीखुशी सहयोग कर रहा था. वे एक अजनबी की तरह अपने ही घर में ये सब होते देख रहे थे. किसी ने उन से न कुछ कहा न पूछा. पत्नी ने यह भी नहीं कहा कि वे बहू को आशीर्वाद दे दें. उन को दुख हुआ, परंतु किसी से व्यक्त नहीं कर सकते थे. बात यहां तक रहती तब भी वे संतोष कर लेते, परंतु दूसरे दिन पत्नी और बेटे की जिद के चलते परिचितों व रिश्तेदारों को शादी का रिसैप्शन देना पड़ा. इस में उन के लाखों रुपए खर्च हो गए. परिवार के किसी व्यक्ति की खुशी में वे भागीदार नहीं थे, परंतु उन की खुशी के लिए पैसा खर्च करना उन का कर्तव्य था. इसी मध्य, उन्हें छींक आई और वे भूत के विचारों की धुंध से वर्तमान में लौट आए.

मणिकांत ने जीवन के लगभग 25 वर्ष तक पूरी निष्ठा और ईमानदारी से पत्नी को प्रेम किया था. पत्नी, परिवार और बच्चों की हर जरूरत पूरी की थी परंतु अब उन्हें लगने लगा था कि उन्होंने मात्र एक जिम्मेदारी निभाई थी. बदले में जो प्यार उन्हें मिलना चाहिए था वह नहीं मिला. औफिस में अधिक देर तक बैठने से उन के मन को सुकून मिलता था. उस दिन उन के एक सहकर्मी मित्र उन के कमरे में आए और सामने बैठते हुए बोले, ‘‘क्यों यार, क्या बात है, आजकल देख रहा हूं, औफिस में देर तक बैठने लगे हो. काम अधिक है या और कोई बात है?’’ मणिकांत ने हलके से मुसकरा कर कहा, ‘‘नहीं, काम तो कोई खास नहीं, बस यों ही.’’

‘‘अच्छा, तो अब भाभीजी अच्छी नहीं लगतीं और बच्चे बड़े हो गए हैं. जिम्मेदारियां कम हो गई हैं?’’ मित्र ने स्वाभाविक तौर पर कहा.

‘‘क्या मतलब?’’ मणिकांत ने चौंक कर पूछा.

‘‘मतलब साफ है, यार. आदमी घर से तब दूर भागता है जब पत्नी बूढ़ी होने लगे और उस का आकर्षण कम हो जाए. बच्चे भी इतने बड़े हो जाते हैं कि उन की अपनी प्राथमिकताएं हो जाती हैं. तब घर में कोई हमारी तरफ ध्यान नहीं देता. ऐसी स्थिति में हम या तो औफिस में काम के बहाने बैठे रहते हैं या किसी और काम में व्यस्त हो जाते हैं.’’

मणिकांत गुमसुम से बैठे रह गए. उन्हें लगा कि सहकर्मी की बात में दम है. वह जीवन की वास्तविकताओं से भलीभांति वाकिफ है और वे अपनी समस्या को उस मित्र के साथ साझा कर मन के बोझ को किसी हद तक हलका कर सकते हैं. मन ही मन निश्चय कर उन्होंने धीरेधीरे अपनी पत्नी से ले कर बच्चों तक की समस्या खोल कर मित्र के सामने रख दी, कुछ भी नहीं छिपाया. अंत में उन्होंने कहा, ‘‘अमित, यही सब कारण हैं जिन से आजकल मेरा मन भटकने लगा है. पत्नी से विरक्ति सी हो गई है. उस का ध्यान बच्चों की तरफ अधिक रहता है, धनसंपत्ति इकट्ठा करने में उस की रुचि है, बच्चों के भविष्य बिगाड़ती जा रही है. बच्चों के बारे में कुछ तय करने में मेरा कोई सहयोग नहीं लेती. इस के अतिरिक्त एक पति की दैनिक जरूरतें क्या हैं, उन की तरफ वह बिलकुल ध्यान नहीं देती.’’

‘‘बच्चों के प्रति मां की चिंता वाजिब है, परंतु मां की बच्चों के प्रति अति चिंता बच्चों को बनाती कम, बिगाड़ती ज्यादा है,’’ अमित ने स्वाभाविक भाव से कहा.

‘‘सच कहते हो. पत्नी और बच्चों के साथ रहते हुए जिस प्रकार का जीवन मैं व्यतीत कर रहा हूं, उस से मुझे लगता है कि पारिवारिक रिश्ते केवल पैसे के इर्दगिर्द घूमते रहते हैं. उन में प्रेम नाम का तत्त्व नहीं होता है या अगर ऐसा कोई तत्त्व दिखाई देता है तो केवल स्वार्थवश. जब तक स्वार्थ की पूर्ति होती रहती है तब तक प्रेम दिखाई देता है. जैसे ही परिवार में अभाव की टोली अपने लंबे पैर पसार कर बैठ जाती है वैसे ही परिवार के बीच लड़ाईझगड़ा आरंभ हो जाता है. तब प्रेम नाम का जीव पता नहीं कहां विलीन हो जाता है.’’

‘‘परिवार में इस तरह की छोटीछोटी बातें होती रहती हैं परंतु मन में गांठ बांध कर इन को बड़ा बनाने का कोई औचित्य नहीं होता,’’ अमित ने समझाने के भाव से कहा.

‘‘मैं ने अपने मन में कोई गांठ नहीं बनाई. अब तक हर संभव कोशिश की कि पत्नी के साथ सामंजस्य बिठा सकूं, बच्चों को उचित मार्गदर्शन दे सकूं, परंतु पत्नी की हठधर्मी के आगे मेरी कोई नहीं चलती. मैं जैसे अपने ही घर में कोई पराया व्यक्ति हूं. मेरी अहमियत केवल यहीं तक है कि मैं उन के लिए पैसा कमाने की मशीन हूं. इस से मेरे मन को ठेस पहुंचती है. बच्चे तो कईकई दिन तक मुझ से बात नहीं करते. मैं उन से आत्मीयता से बात करने की कोशिश करता हूं, तब भी मुझ से दूर रहते हैं. हर जरूरत के लिए वे मां के पास जाते हैं. बड़ा तो जैसेतैसे अब अपने सहीगलत मार्ग पर चल रहा है. अपनी मरजी से शादी की, खुश रहे, परंतु छोटा तो अभी किसी कोर्स के लिए क्वालीफाई तक नहीं कर पाया है. हर बार एंट्रेंस एग्जाम में फेल हो जाता है. दिनभर घूमता रहता है, पता नहीं, क्या करने का इरादा है? उस की हरकतों से मुझे असीम कष्ट पहुंचता है.’’

‘‘कभी तुम ने भाभीजी के स्वभाव का विश्लेषण करने का प्रयत्न किया या जानने की कोशिश की कि वे क्यों ऐसी हैं?’’ अमित ने पूछा.

‘‘बहुत बार किया. कई बार तो उस से ही पूछा, ‘तुम क्यों इतनी चिड़चिड़ी हो? जब देखो तब गुस्से में रहती हो. तुम्हें क्यों हर वक्त सब से परेशानी रहती है?’ तब वह भड़क कर बोली, ‘कौन कहता है कि मैं चिड़चिड़ी हूं और सदा गुस्से में रहती हूं. मेरे स्वभाव में क्या कमी है? आप को ही मेरा स्वभाव अच्छा नहीं लगता तो मैं क्या करूं.’ बाद में मैं ने उस के मायके में पता किया तो पता चला कि वह जन्म से ऐसी ही चिड़चिड़ी, गुस्सैल और जिद्दी थी. तोड़नाफोड़ना उस का स्वभाव था. मनमानी कर के अपनी सहीगलत बातें मांबाप से मनवा लेती थी. उसी चरित्र को आज भी वह जी रही है. अब उस में क्या परिवर्तन आएगा?’’

‘‘मैं कुछ हद तक तुम्हारी समस्या समझ सकता हूं. तुम्हारे परिवार की यह स्थिति पत्नी के स्वार्थी और कर्कश स्वभाव के कारण है. ऐसी पत्नी दूसरों को उपेक्षित कर के स्वयं ऊंचा रख कर देखती है. उस के लिए उस का स्वर और बच्चे ही अहम होते हैं. ऐसी स्त्रियों का अनुपात हमारे समाज में कम है, फिर भी उन की संख्या कम नहीं है. इस तरह की पत्नियां अपने पतियों का जीवन ही नहीं, पूरे ससुराल वालों का जीना दुश्वार किए रहती हैं. मुझे लगता है भाभीजी ऐसे ही चरित्र वाली महिला हैं. इस तरह की स्त्रियां चोट खा कर भी नहीं संभलतीं.’’

‘‘तब फिर परिवार में सामंजस्य बनाए रखने और खुशियों को जिंदा रखने का क्या उपाय है?’’ मणिकांत ने पूछा.

‘‘बहुत आसान है मेरे भाई. जब घरपरिवार में पत्नी और बच्चों से खुशियां न मिलें तो आदमी अपनी जिम्मेदारियों को निभाते हुए भी खुशी तलाश कर सकता है.’’

‘‘वह कैसे?’’ उन्होंने अपनी जिज्ञासा व्यक्त की.

‘‘तुम अपनी पारिवारिक जिम्मेदारियों को निभाते हुए परिवार को भी खुश रख सकते हो, और स्वयं के लिए मन की खुशी भी तलाश कर सकते हो,’’ अमित ने रहस्यमयी तरीके से कहा.

‘‘मन की खुशी कैसी होती है?’’ मणिकांत की उत्सुकता बढ़ती जा रही थी. अमित के सामने वे एक बच्चा बन गए थे.

अमित ने एक शिक्षक की तरह उन्हें समझाया, ‘‘खुशियां केवल भौतिक चीजों से ही नहीं मिलतीं, ये मनुष्य के मन में भी होती हैं. बस, हम उन्हें पहचान नहीं पाते.’’

‘‘मन की खुशियां कैसे तलाश की जा सकती हैं? ’’ वे जानने के लिए उतावले हो रहे थे.

‘‘ऐसी खुशियां हम अपनी रुचि और शौक के मुताबिक कार्य कर के प्राप्त कर सकते हैं. प्रत्येक मनुष्य स्वभाव से कलाकार होता है, उस के चरित्र में रचनात्मकता होती है, परंतु जीवन की आपाधापी और परिवार के चक्कर में घनचक्कर बन कर, वह अपने आंतरिक गुणों को भुला बैठता है. अगर हम अपने आंतरिक गुणों की पहचान कर लें तो हर व्यक्ति, लेखक, चित्रकार, कलाकार, अभिनेता आदि बन सकता है. तुम बताओ, तुम्हारी रुचियां कौन सी हैं?’’

मणिकांत सोचने लगे. फिर कहा, ‘‘अब तो जैसे मैं भूल ही गया हूं कि मेरी रुचियां और शौक क्या हैं, परंतु विद्यार्थी जीवन में कविताएं लिखी थीं और कुछ चित्रकारी का भी शौक था.’’ अमित ने उत्साहित हो कर कहा, ‘‘बस, यही तो हैं तुम्हारे आंतरिक गुण. तुम को बहुत अधिक उलझने की आवश्यकता नहीं है. बस, तुम फिर से लिखना शुरू कर दो और पैंसिल ले कर कागज पर आकार बनाना आरंभ करो. फिर देखना, कैसे तुम्हारी कला और लेखन में निखार आता है. तुम अपने परिवार के सभी कष्ट और दुख भूल कर स्वयं में इतना मगन हो जाओगे कि चारों तरफ तुम को खुशियां ही खुशियां बिखरी नजर आएंगी.’’

मणिकांत अमित की बात से सहमत थे. मुसकराते हुए कहा, ‘‘धन्यवाद अमित, तुम ने मुझे सही रास्ता दिखाया. अब मैं परिवार के बीच भी खुशियां ढूंढ़ लूंगा.’’ ‘‘मैं ने तुम्हें कोई रास्ता नहीं दिखाया. प्रत्येक  व्यक्ति को खुशियों की मंजिल का पता होता है. बस, परिस्थितियों के भंवर में फंस कर वह अपना सही मार्ग भूल जाता है. मैं ने तो केवल तुम्हारी सोती हुई बुद्धि को जगाने का कार्य किया है.’’

उस रात पलंग पर लेटेलेटे उन्होंने पत्नी से सवाल किया, ‘‘क्या तुम इस बात पर विश्वास करती हो कि एक व्यक्ति किसी को उम्रभर एक ही जैसा प्यार कर सकता है?’’ ‘‘यह कैसा सवाल है? हम सभी एकदूसरे को प्यार करते हैं. इस में कौन सी नई बात है?’’ वह दूसरी तरफ करवट बदल कर बोली.

मणिकांत तड़प कर रह गए. उस से बात करना व्यर्थ था. हर बात को वह उलटे तरीके से लेती है. कभी प्यार से उन की बात को समझने की कोशिश नहीं करती. उन्होंने सिर टेढ़ा कर के पत्नी की अधखुली पीठ देखी, सुंदर और चिकनी पीठ. काश, इतनी ही सुंदर और मीठी उस की बोली होती. इस के बाद मणिकांत 2 भागों में बंट गए. एक भाग में वे स्वयं के साथ होते. उन्होंने कागज, कलम और पैंसिल हाथों में पकड़ ली. अपनी भावनाओं को अक्षरों और चित्रों के माध्यम से व्यक्त करने लगे. वे लेखन और चित्रकारी में इस कदर डूब  जाते कि उन्हें घरपरिवार की उलझनें कहीं दिखाई ही नहीं देतीं. अब सब से हंस कर बोलते, पत्नी को आश्चर्य होता. जो आदमी हमेशा दुखीपरेशान रहता था, वह खुश कैसे  रहने लगा है. इस बात से पत्नी की चिंता में बढ़ोतरी हो गई.

दूसरे भाग में उन का परिवार था, जहां बाढ़ के पानी की तरह हलचल थी, तीव्र वेग था, जो सबकुछ अपने साथ बहा ले जाने के लिए बेताब था. बाढ़ के बाद की तबाही का मंजर उन की आंखों के सामने अकसर गुजर जाता, परंतु अब वे असमर्थ हैं. बच्चे इतने निरंकुश हो चुके थे कि बड़े बेटे ने सड़क दुर्घटना में अपनी नई बाइक का कबाड़ा कर दिया था. खुद जख्मी हो गया था और हजारों रुपए इलाज में खर्च हो गए थे. इंश्योरैंस का पैसा अभी तक मिला नहीं था. लेकिन जैसे ही ठीक हो कर घर आया, तुरंत दूसरी बाइक की मांग करने लगा. मणिकांत को अपनी खुशियों का पता चल गया था, अतएव उन्होंने बिना नानुकुर के पत्नी के हाथ में पैसा रख दिया. स्वाति बड़ी हैरान थी. पहले तो वे पैसा इतनी आसानी से नहीं देते थे. आजकल उन को क्या हो गया है, वह कुछ समझ न पाती.

पत्नी से एक दिन पूछा उन्होंने, ‘‘अगर तुम्हारे पास पैसा हो, परंतु मैं न रहूं, तो क्या तुम खुश रह लोगी?’’

पत्नी ने पहले तो उन्हें घूर कर देखा और फिर मुंह टेढ़ा कर के पूछा, ‘‘इस का क्या मतलब हुआ? क्या आप कहीं जा रहे हैं?’’

‘‘कहीं जा तो नहीं रहा, परंतु मान लो ऐसा हो जाए या मैं इस दुनिया में न रहूं, तो क्या तुम मेरे बिना खुश रह लोगी?’’

‘‘जब देखो तब आप टेढ़ीमेढ़ी बातें करते हो. कभी कोई सीधी बात नहीं की. दुनिया का प्रत्येक प्राणी मृत्यु को प्राप्त होता है, इस में नया क्या है? घर के लोग कुछ दिन शोक मनाते हैं, फिर जीवन अपने ढर्रे पर चलने लगता है.’’

पत्नी व्यावहारिक बात कर रही थी परंतु उस की बातों में रिश्तों की कोई मिठास नहीं थी. उस में भावुकता और संवेदनशीलता नाम की भी कोई चीज नहीं थी. वह एक जड़ वस्तु की तरह व्यवहार कर रही थी. धीरेधीरे पतिपत्नी के बीच एक संवादहीनता की स्थिति उत्पन्न होती जा रही थी. घर के लोगों से माथापच्ची करने के बजाय वे अब अधिकतर समय लेखन में व्यतीत करते. चित्रकारी में उन का हाथ सध गया था और कागजकलम छोड़ कर अब वे कैनवास पर रंग बिखेरने लगे थे. उन के रंगों में अधिकतर खुशियों के रंग होते थे. यह सत्य है कि जो व्यक्ति अंदर से दुखी होता है, वह दूसरों को खुशी बांटने में कंजूसी नहीं करता.

कुछ दिन बाद अमित ने पूछा, ‘‘अब तुम कैसा महसूस कर रहे हो?’’

‘‘बहुत अच्छा. तुम्हारी सलाह ने मुझ पर जादू सा असर किया है. मैं मन लगा कर अपनी रुचि के मुताबिक लेखन और चित्रकारी में व्यस्त रहता हूं. परिवार के लोग अपनेअपने जोड़तोड़ में लगे रहते हैं. मैं ने उन सब को उन के हाल पर छोड़ दिया है. जवान व्यक्ति अगर गलत राह पर चलता है तो वह ठोकर खाने के बाद ही सुधरता है. पत्नी के बारे में मैं अब नाउम्मीद हो चुका हूं. हां, लड़के अगर सुधर जाएं तो गनीमत है. वैसे मुझे लगता नहीं है क्योंकि पत्नी उन के हर गलत काम में खुशी से सहयोग देती है. बिना रुकावट के तो सीधा आदमी भी टेढ़ा चलने लगता है.’’

‘‘तुम एक धैर्यवान व्यक्ति हो और मुझे आशा है कि तुम अपने परिवार को सही रास्ते पर ला सकोगे. कोई भी व्यक्ति जड़ नहीं होता. अगर वह जीवन में गलती करता है तो एक न एक दिन सही रास्ते पर आ ही जाता है. अगर वह किसी के समझाने से सही राह पकड़ लेता है तो बहुत अच्छा है, वरना परिस्थितियां उसे सही मार्ग अवश्य दिखा देती हैं.’’ ‘‘मेरी पत्नी समझाने से तो सही राह पर नहीं आने वाली, परंतु मेरा विश्वास है कि परिस्थितियां उसे एक दिन अवश्य बता देंगी कि अपनी मूर्खता से किस प्रकार उस ने बेटों का जीवन बरबाद कर दिया है.’’

‘‘तुम्हारी पत्नी अपनी गलतियों से कुछ सीखती है या नहीं, अब यह बहुत गौण बात है. इस का समय अब निकल गया है. आज की तारीख में तुम्हारे लिए यह जानना जरूरी है कि मनुष्य विपरीत परिस्थितियों में भी कैसे खुश रह सकता है. यह मंत्र अगर तुम्हें आ गया, तो समझिए, जीवन अनमोल है, वरना मूर्ख लोग जीवन को जहर समझ कर पीते ही रहते हैं और हर छोटी बात का रोना रोते रहते हैं. तुम्हारे घर वाले अपनीअपनी जगह खुश हैं. बस, तुम्हें अपनी खुशियां तलाश करनी हैं और ये खुशियां तुम्हें अपने मन को स्वस्थ और प्रसन्न रखने से ही प्राप्त होंगी.’’

‘‘मैं समझता हूं, मैं ने अपनी जिम्मेदारियों को निभाने में कोई कोताही नहीं बरती. इस बात की मुझे खुशी है. बस, बेटे सही मार्ग पर नहीं चल पाए, इस बात का मुझे दुख है.’’

‘‘इस दुख को अपने मन में रख कर तुम सुखी नहीं रह सकते. यों तो बच्चों के बिगड़ने की जिम्मेदारी लोग अकसर बाप पर ही थोपते हैं, जबकि बच्चों को बनानेबिगाड़ने में मां का हाथ अधिक होता है, परंतु मां की तरफ लोगों का ध्यान कम जाता है. तुम ने अपना कर्तव्य ईमानदारी से पूरा कर दिया, यह बात प्रमुख है. उस का फल नहीं मिला, तो इस में अफसोस नहीं करना चाहिए. भौतिक खुशियां हर किसी को एकसमान नहीं मिलतीं. सच्चा मनुष्य वही है जो मन की खुशियों के सहारे दूसरों को खुशियां प्रदान करता रहे. मैं तुम्हारी समझदारी की दाद देता हूं कि घर के विपरीत माहौल में भी तुम ने कोई ऐसी परिस्थिति उत्पन्न नहीं होने दी, जिस से बात मारपीट तक पहुंचती या तलाक की नौबत आती. तुमने पत्नी और बच्चों को उन के हिसाब से जीने दिया और अपनी खुशियों को बलिदान करते रहे. अब तुम अपने अनुसार अंतिम जीवन व्यतीत करो. मेरा विश्वास है, हर कदम पर तुम्हें मानसिक सुख प्राप्त होता रहेगा.’’

‘‘हां अमित, उस का रास्ता तुम ने मुझे दिखा ही दिया है. अब मैं बहुत खुश हूं.’’

‘‘तो फिर तुम्हारा लेखन कैसा चल रहा है और चित्रों में कितने रंग भरने सीख लिए हैं तुम ने? ये रंग खुशियों के हैं, या…’’ अमित ने जानबूझ कर वाक्य अधूरा छोड़ ?दिया.

‘‘दोनों कार्य कर रहा हूं. लेखन कार्य द्वारा मैं तल्खियों को कम कर के अपनी भावनाओं को संतुष्ट कर लेता हूं, तो चित्र बना कर मुझे नैसर्गिक सुख का आभास होता है. उन के रंग कैसे हैं, यह तुम देख कर बताना.’’

‘‘अच्छा तो जब तुम्हारी कोई रचना छपे तो मुझे अवश्य दिखाना और चित्रों के रंग देखने के लिए किसी दिन तुम्हारे घर आऊंगा.’’

‘‘हां, हां, क्यों नहीं. शिष्य की पहली उपलब्धि पर गुरु का ही अधिकार होता है.’’

दोनों खिलखिला कर हंस पड़े.

बहुत दिनों बाद मणिकांत इतना खुल कर हंसे थे. उन्हें लगा, जीवन इतना कष्टमय और दुखदायी नहीं है जितना वे पिछले दिनों समझने लगे थे.

Tags:
COMMENT