भाग 1

थाने के फोन की घंटी बजी तो हलवदार ने रिसीवर उठाते ही कहा, ‘‘सर, थाना सुलतानपुरा से हवलदार जसवंत सिंह.’’

‘‘मैं सरकारी टीचर संदीप शर्मा बोल रहा हूं. कोठी नंबर 534 बी, आदर्श नगर से. आप जल्दी यहां आ जाइए. किसी ने कोठी की मालकिन सतनाम कौर की हत्या कर दी है. उन की लाश बेडरूम में पड़ी है.’’ दूसरी ओर से कहा गया.

हवलदार जसवंत सिंह ने यह सूचना थाने के एसएचओ इंसपेक्टर ओंकार सिंह बराड़ को दे दी. आेंकार सिंह पुलिस टीम के साथ आदर्श नगर स्थित घटनास्थल पर पहुंच गए. वहां पहले से ही लोगों की भीड़ जमा थी. भीड़ में से एक व्यक्ति ने आगे बढ़ कर बताया, ‘‘सर, मेरा नाम संदीप शर्मा है, मैं ने ही थाने में फोन किया था.’’

‘‘लाश कहां है?’’ इंसपेक्टर ओंकार सिंह ने पूछा तो संदीप शर्मा ने कोठी की ऊपरी मंजिल की ओर इशारा करते हुए बताया, ‘‘सर, लाश बेडरूम में पड़ी है.’’

ओंकार सिंह अपनी टीम के साथ कोठी के ऊपर वाले भाग में पहुंचे. बेडरूम में बेड पर एक बुजुर्ग महिला की लाश पड़ी थी. इंसपेक्टर ओंकार सिंह ने घटना की सूचना उच्च अधिकारियों को दी और घटनास्थल पर क्राइम टीम को बुलवा लिया.

फौरेंसिक एक्सपर्ट और फिंगरपिं्रट विशेषज्ञों ने आते ही अपना काम शुरू कर दिया. इस बीच सूचना पा कर एसपी कपूरथला मनदीप सिंह भी मौकाए वारदात पर पहुंच गए थे. घटनास्थल और लाश का निरीक्षण करने से पता चला कि मृतका की हत्या गला घोंट कर की गई थी.

पूछताछ के दौरान संदीप शर्मा ने बताया कि मृतका सतनाम कौर कनाडा की रहने वाली थीं. वह करीब 5 महीने पहले अपने रिश्तेदारों से मिलने यहां आई थीं. संदीप शर्मा ने यह भी बताया कि उस ने मृतका के बेटे मनमोहन सिंह को कनाडा फोन कर के घटना की सूचना दे दी है.

इंसपेक्टर ओंकार सिंह अभी संदीप शर्मा का बयान नोट कर रही रहे थे कि राजपुर महतानियां, जिला होशियारपुर निवासी राजिंदर सिंह ने वहां आ कर बताया कि मृतका उस की बहन सतनाम कौर है. दरअसल, संदीप शर्मा ने मृतका के बेटे मनमोहन सिंह को फोन कर के घटना के बारे में बता दिया था.

मनमोहन ने अपने मामा को फोन कर के कहा कि वह मां के पास जा कर देखें, खबर सच है या किसी ने भद्दा मजाक किया है. भांजे का फोन मिलने के बाद राजिंदर सिंह आदर्शनगर आ गए थे.

बहरहाल, राजिंदर सिंह के बयान पर 30 मार्च, 2019 को अज्ञात लोगों के खिलाफ सतनाम कौर की हत्या का मुकदमा भादंवि की धारा 302 के तहत दर्ज कर लिया गया. इस के साथ ही मृतक की लाश को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया गया.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार मृतका की हत्या दम घुटने के कारण हुई थी. उन के गले पर दुपट्टे वगैरह से कसने के निशान थे. हत्या का दिन 29 मार्च और समय दिन के 11 बजे से 12 बजे के बीच बताया गया था.

अब तक की पूछताछ में यह बात स्पष्ट हो गई थी कि मृतका की किसी से कोई दुश्मनी या अनबन नहीं थी. वह 2-3 साल में एक बार कुछ दिनों के लिए कनाडा से अपने रिश्तेदारों से मिलने आया करती थी. वह जब भी आती थीं, ज्यादातर अपनी आदर्शनगर वाली कोठी में ही रहा करती थीं.

चूंकि मामला एक एनआरआई बुजुर्ग महिला से जुड़ा था इसलिए एसपी मनदीप सिंह के आदेश पर इसे जल्द से जल्द सुलझाने के लि ए 3 टीमें गठित की गईं.

हत्या के इस मामले में अजीब बात यह थी कि घर में कोई चीज चोरी नहीं हुई थी. घर का सारा सामान ज्यों का त्यों था. किसी चीज को छेड़ा तक नहीं गया था. बेडरूम में चाय के 3 खाली गिलास रखे मिले. इस से साफ था कि घर में सतनाम कौर का कोई परिचित आया था.

पुलिस ने मृतका सतनाम कौर के पारिवारिक सदस्यों और निजी जिंदगी के बारे में पूछताछ की तो पता चला कि सतनाम कौर के पति बलदेव सिंह की साल 1998 में मौत हो गई थी. मृतका के 2 बेटे थे बड़ा बेटा जगमोहन सिंह जग्गा और छोटा मनमोहन सिंह उर्फ मनी.

ये भी पढ़ें- समाज की दूरी से दो लोगों को फांसी: भाग 2

मनमोहन सिंह उर्फ मनी कनाडा में रहता था. जबकि बड़े बेटे जगमोहन उर्फ जग्गा की साल 2017 में मृत्यु हो गई थी. जगमोहन की पत्नी हरजोत कौर अपने बच्चों के साथ गांव दादूवाल में रहती थी.

बलदेव सिंह की मौत के समय इस परिवार के पास 12 किले उपजाऊ जमीन थी, जिसे 3 बराबर हिस्सों में बोट दिया गया था. हरेक के हिस्से में 4-4 किले जमीन आई थी. दोनों बेटों के साथसाथ एक हिस्सा सतनाम कौर का था.

पति की मौत के बाद सतनाम कौर छोटे बेटे मनमोहन के पास कनाडा चली गई थीं. पुलिस जांच में एक अहम बात यह सामने आई कि बड़े बेटे जगमोहन की पत्नी हरजोत कौर की अपनी सास सतनाम कौर से बिलकुल नहीं बनती थी. जगमोहन की मौत के समय भी सतनाम कौर केवल उस की अंतिम अरदास पर ही गई थीं.

इस पूरे मामले की जांच के बाद शक की सुई हरजोत कौर की ओर घूम गई. इस बीच इंसपेक्टर ओंकार सिंह ने इलाके के सीसीटीवी फुटेज निकालवा कर चेक किए तो एक सरकारी दफ्तर के बाहर लगे कैमरे में एक्टिवा पर सवार एक पुरुष और उस के पीछे बैठी महिला को सतनाम कौर की कोठी में जाते देखा गया.

हालांकि दोनों ने अपने चेहरे कपड़े से ढक रखे थे. लेकिन एक्टिवा का नंबर- पीबी 37 एच-3277 स्पष्ट दिखाई दे रहा था.

आरटीओ औफिस से पता चला कि उक्त नंबर की एक्टिवा मृतका की बड़ी बहू हरजोत कौर की है. पुलिस का शक अब पूरी तरह यकीन में बदल गया था. जब हरजोत कौर को उस के गांव दादूवाल से हिरासत में ले कर पूछतछ की गई तो उस ने तुरंत अपन अपराध स्वीकार कर लिया. उस ने बताया कि उस ने पैसों के लालच में अपनी सास की हत्या की थी.

इस हत्याकांड में उस के साथ उस का परिचित विक्रमजीत सिंह उर्फ विक्की भी था जो गांव समरावा, जिला जालंधर का रहने वाला है. पुलिस ने हरजोत की निशानदेही पर विक्की को भी गिरफ्तार कर लिया.

दोनों आरोपियों को 1 अप्रैल को फगवाड़ा की अदालत में पेश कर उन का 2 दिन का पुलिस रिमांड लिया गया. रिमांड के दौरान दोनों आरोपियों से की गई पूछताछ के बाद मृतका सतनाम कौर की हत्या की जो कहानी सामने आई वह इस प्रकार थी.

हरजोत कौर जब ब्याह कर ससुराल आई थी तभी से अपनी सास सतनाम कौर के साथ उस की कभी नहीं बनी थी. सतनाम कौर भी अपनी बहू को नापसंद करती थी. इस का एक कारण शायद यह था कि बलदेव सिंह और सतनाम कौर अपने छोटे बेटे मनमोहन के साथ कनाडा में रहते थे.

हरजोत ने भी कनाडा जाने की जिद की थी, अपने पति जगमोहन को उकसाया भी था, पर सतनाम कौर ने उस की एक नहीं चलने दी थी. इसी वजह से वह सतनाम कौर से रंजिश रखने लगी थी.

ये भी पढ़ें- रातों का खेल: भाग 2

बलदेव सिंह की मौत के बाद जब जमीन का बंटवारा हो गया तो हरजोत कौर अपने हिस्से की जमीन और पैसा ले कर पति और बच्चों के साथ जिला जालंधर के गांव दादूवाल में जा कर रहने लगी थी. अपने हिस्से की जमीन उस ने ठेके पर विक्की के पिता हरजीत को दे दी थी.

हरजोत चालाक और ज्यादा पैसा खर्च करने वाली औरत थी. जमीन से होने वाली कमाई उस के लिए पूरी नहीं पड़ती थी. उस की नजर हर समय अपनी सास के हिस्से वाली जमीन और उन के बैंक बैलेंस पर रहती थी. जबकि सतनाम कौर उसे अपने घर में घुसने तक नहीं देती थी.

हरजोत कौर पर इन दिनों काफी कर्जा हो गया था. कर्जदार उसे परेशान कर रहे थे, ऊपर से उस के बच्चे जवान हो रहे थे. उन के शादीब्याह की चिंता अलग से थी. हरजोत कौर को अपनी सास से यह रंजिश भी थी कि वह उस पर और उस की जवान होती बेटी पर तरहतरह के लांछन लगाती थीं.

क्रमश:

—कथा पुलिस सूत्रों पर आधारित

सौजन्य: मनोहर कहानियां

Tags:
COMMENT