परिवार में पिता की भूमिका पुत्री के लिये सहज होने लगी है. पिता अब पुरानी रूढिवादी, दकियानूसी सोच और मूछों की चिंता छोड़कर पुत्री को आगे बढ़ाने के लिये पूरी तरह से प्रयास करने लगा है. यही वजह है कि आज लड़कियों को करियर बनाने के लिये पहले से अधिक अवसर मिलने लगे हैं. यही नहीं कल तक सास बहू और परिवार का ड्रामा दिखाने वाले टीवी सीरियल भी अब अपनी सोच बदल कर पिता-पुत्री के सहज होते रिश्ते की कहानियों पर बने शो दिखाने लगे हैं. स्टार प्लस के टीवी शो ‘मेरी दुर्गा’ के लीड आर्टिस्ट विकी अहूजा कहते हैं ‘समाज की सोच बदल रही है. यह बात और है कि अभी इसको व्यापक स्तर पर बदलना बाकी है. सबसे अच्छी बात यह है कि आम परिवारों में यह सोच बदल रही है. खेतों में काम करने वाले लोग तक अपनी बेटी को पढ़ाने के लिये स्कूल भेजने का प्रयास करता है.’

COMMENT