किस्मत भी एक शोध का विषय हो सकता है,अब देखिए ! हमारे मुख्यमंत्री जी की धर्मपत्नी कितनी भाग्यशाली है. दरअसल धर्मपत्नी होती ही भाग्यशाली है. मंत्री जी की पत्नी, मंत्राणी जी, जिलाधीश की पत्नी, मैडम कलेक्टर, पुलिस कप्तान की धर्मपत्नी, मैडम एसपी!! हो जाती है. स्वयमेव. कुछ नहीं करना पड़ता.जहां पहुंच जाए सर आंखों पर बैठा लेते हैं. बड़ी पुरानी संस्कृत की उक्ति है पुरुष भाग्यम, स्त्री चरित्रंम... मुझे लगता है यह मसला बिल्कुल उलट होना चाहिए . इसे किसी धर्मपत्नी द्रोही में रचा होगा. मेरा वश चले तो इसे संसार में इस तरह प्रचालित कर दूं- धर्मपत्नी भाग्यम पुरुष चरित्रम...!

Tags:
COMMENT