पिछले कई महीनों से मेरे वो (पतिदेव) परेशान दिखाई दे रहे थे. एक तो उन की कोई मल्टीनैशनल कंपनी थी, वह बंद होने वाली थी, दूसरे, स्वास्थ्य संबंधी कोई न कोई शिकायत बराबर बनी रहती थी. वे परेशान थे तो मैं भी परेशान रहती थी. एक बार मैं सड़क पर पैदल चली आ रही थी. दिमाग में पतिदेव का परेशान चेहरा घूम रहा था, तभी मेरी नजर फुटपाथ पर बैठे एक व्यक्ति पर गई जोकि पिंजरा लिए हुए था. उस में एक तोता था. उस पर एक छोटा सा बोर्ड लगा रखा था, ‘प्रत्येक समस्या का हल तोता महाराज देता है.’

Digital Plans
Print + Digital Plans
Tags:
COMMENT