बदल रहा है कश्मीर

कश्मीर की फिजा इन दिनों बदलीबदली नजर आ रही है. अरसे बाद यहां से अच्छी खबरें आ रही हैं. एक तरफ क्रिकेट की जीत की खबर है तो वहीं दूसरी तरफ विधानसभा चुनाव में भारी मतदान से लोकतंत्र की जीत हुई. 80 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि रणजी ट्रौफी ग्रुप ए के मैच में जम्मूकश्मीर ने 40 बार की चैंपियन रही मुंबई को उसी के मैदान पर 4 विकेट से हरा कर ऐतिहासिक जीत हासिल की. जम्मूकश्मीर टीम के कप्तान परवेज रसूल की भूमिका इस में अहम रही. जम्मू की टीम में काफी नए खिलाड़ी हैं जबकि मुंबई की टीम के खिलाडि़यों की बात करें तो ज्यादातर खिलाडि़यों को आईपीएल में खेलने का अनुभव रहा है. ऐसे में इस जीत के खासे माने हैं. इस जीत के बाद रसूल ने कहा कि मुंबई को मुंबई में हराना बड़ी उपलब्धि है. पिछले 2-3 वर्षों में हमारा ग्राफ तेजी से बढ़ा है. पहले हमें कहा जाता था कि एलीट डिवीजन में खेलना अलग है और अब हमारे पास उस सवाल का जवाब है. परवेज रसूल कश्मीर के एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने राष्ट्रीय टीम में जगह बनाई और उन का नाम विश्व कप के संभावित खिलाडि़यों में भी शामिल है. विश्व का सब से धनी क्रिकेट बोर्ड बीसीसीआई को माना जाता है लेकिन शर्म की बात तब होती है जब कई राज्यों के खिलाडि़यों को दयनीय हालत में खेलना पड़ता है, जैसा कि जम्मूकश्मीर के रणजी खिलाडि़यों को खेलना पड़ा.

COMMENT