नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बन कर देश पर हिटलरी शासन थोपने के सपनों पर फिलहाल काला साया पड़ने लगा है. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दिल्ली में रैली कर के साफ कर दिया कि गुजरात का कट्टर हिंदूवादी, मुसलिम व दलित विरोधी तथा अमीरप्रेमी मौडल देश को भाए, यह जरूरी नहीं है. उन्होंने बिहार की गरीबी की चिंता जरूर की पर यह बताने से नहीं चूके कि पश्चिम बंगाल व ओडिशा जैसे राज्य भी बिहार की तरह हैं. गुजरात तो दंभ में अपने को अनूठा समझता है.

COMMENT