सरकारी योजनाओं का फायदा बिहार में छोटे किसानों तक नहीं पहुंच पा रहा है. खेती की जमीन के मालिकाना हक को ले कर मची अराजकता और छोटे किसानों तक खेती की तरक्की की योजनाएं नहीं पहुंच पाने की वजह से खेती और छोटे किसानों की हालत लगातार खराब होती जा रही है. इस से छोटे किसानों का खेती से मन उचटता जा रहा है. यही वजह है कि खेती का रकबा और उत्पादन बढ़ाने की तमाम सरकारी योजनाएं फेल हो रही हैं. खेती छोड़ कर किसान पेट पालने के लिए मजदूरी करने लगे हैं, जिस वजह से खेतिहर मजदूरों की संख्या आज 270 लाख हो गई है.

COMMENT