सौजन्य- सत्यकथा

22 अप्रैल, 2020 को लाठगांव पिपरिया में सहकारी समिति के माध्यम से गेहूं की खरीदी चल
रही थी. गांव के हीरालाल विश्वकर्मा को भी अपना गेहूं बेचने जाना था. वह अपने बड़े बेटे मोहन का इंतजार कर रहे थे. मोहन खेतों पर था. उस का दोस्त कुंजी भी उस के साथ था. दरअसल, गांव के ही देवेंद्र पटेल से बंटाई पर लिए गए खेत पर गेहूं की फसल की मड़ाई हो रही थी. मोहन और कुंजी बीती रात 9 बजे खाना खा कर खेत पर गए थे. सुबह 11 बजे के बाद भी मोहन घर नहीं आया तो हीरालाल ने उसे फोन किया. लेकिन रिंग जाने पर भी फोन रिसीव नहीं हुआ. हीरालाल को लगा कि थ्रेशर की आवाज में फोन की रिंग सुनाई नहीं दी होगी. हीरालाल अपने छोटे बेटे को साथ ले कर गेहूं बेचने सहकारी समिति चला गया.
हीरालाल गेहूं बेच कर दोपहर के 2 बजे घर आया तो उस की पत्नी ने बताया कि मोहन अभी तक खेत से नहीं लौटा है. इस से उसे लगा कि थ्रेशर में कोई खराबी आने की वजह से फसल की मड़ाई पूरी नहीं हो पाई होगी, इसलिए मोहन घर नहीं आया होगा.

Tags:
COMMENT