शारदा ने बहू हिना की बेटी की तरह सेवा की. यह उस की सेवा का ही फल था कि मानसिक रूप से अस्वस्थ हिना धीरेधीरे ठीक होने लगी और शारदा के करीब आने लगी.
अनलिमिटेड कहानियां आर्टिकल पढ़ने के लिए आज ही सब्सक्राइब करेंSubscribe Now