अपनी आंखों से सोचती हूं मैं

और पोरों से देखती हूं मैं

जो भी हालत है मेरे अंदर की

सब से बेहतर जानती हूं मैं

 

इक अजब टूटफूट जारी है

अंदर ही अंदर मर रही हूं मैं

रातभर जागने में सोती हूं मैं

और सोते में जागती हूं मैं

 

इतनी वहशत है अपने होने से

अपनेआप से भागती हूं मैं

Digital Plans
Print + Digital Plans
COMMENT