नरेंद्र मोदी की सरकार मे तेजतर्रार फायर ब्रांड कही जाने बाली साध्वी उमा भारती लीं नहीं गईं थी, बल्कि आरएसएस के दबाब के चलते एक तयशुदा फार्मूले के तहत बतौर मंत्री एडजेस्ट की गईं थी, जिसकी अघोषित शर्त यह थी कि वे अपनी आदत के मुताबिक बेवजह बोलेंगी नहीं, जिससे पार्टी और सरकार की साख पर बट्टा लगे.

COMMENT