मां बनने की ख्वाहिश इस तरह अंगड़ाई ले रही थी कि मैं बस उठतेबैठते ये ही सपने देखती रहती थी. मां बनने से पहले मुझे किसी की पत्नी बनना है, यह मेरे लिए उतना महत्वपूर्ण नहीं था.

मन रोमाचिंत हो उठा, जब कान में भनक पड़ी कि मौसी एक रिश्ता ले कर आई हैं. पर बात वहां नहीं बनी, और कही भी नहीं. बहुत वर देखे, पर किस्मत में विवाह नहीं था शायद.

Tags:
COMMENT