रमलाने दीवार घड़ी में समय देखा. रात के 12 बजे थे. पति मिहिर अभी तक घर नहीं पहुंचा था. कुछ देर पहले उस ने मिहिर को फोन किया तो जवाब मिला कि दिस नंबर इज नौट रीचेबल. मन घबरा गया. मिहिर को इतनी देर कभी नहीं होती थी फिर आज क्यों? कहीं कोई दुर्घटना तो नहीं हो गई? यह नौट रीचेबल क्यों आ रहा है?

रमला के मन में बुरेबुरे खयाल आ रहे थे. सोचने लगी कि यह शहर मेरे लिए बिलकुल नया है. आसपास किसी से परिचय नहीं है. किसे जगाएगी… आधी रात हो गई है. अपने शहर आगरा में पूरी गली में अपनी पहचान वाले थे. वहां तो आधी रात को भी किसी का भी दरवाजा खटका देती थी.

मिहिर पिछले 5 सालों से दिल्ली में रह रहा है. उस के यारदोस्तों की लिस्ट भी लंबी है. औफिस के दोस्तों के साथ अकसर पिक्चर चला जाता, पर देर होने पर फोन अवश्य करता है.

अकसर बौस के साथ औफिस में रुक कर फाइलें निबटाता है तब भी देर हो जाती है.

देखना, आते ही बोलना शुरू हो जाएगा कि बौस के मेन औफिस में कल मीटिंग है. उस के ही पेपर तैयार कर रहा था. बस, देर हो गई. मिहिर बौस के बारे में कई बार बता चुका है. उसे मेहनती और ईमानदार लोगों में खास दिलचस्पी है. नालायक लोगों से नफरत है. वैसे आदमी दिलचस्प है, मेहनती है. लोगों से काम कराना भी आता है, पर पक्का छोकरीबाज है. हर शाम उस के साथ एक लड़की अवश्य होती है. खूब शौपिंग कराता है, गिफ्ट भी खूब देता है. लड़कियां उस के साथ खुश रहती हैं.

यों वह मिहिर पर भी मेहरबान है. मगर रमला उस के नाम से चिढ़ती है, क्योंकि उस ने मिहिर की प्रमोशन फाइल दबा रखी है.

‘‘तुम्हारे साथ के कितने साथी प्रमोट हो कर आगे बढ़ गए, तुम 2 साल से वहीं हो,’’ एक दिन इसी बात को ले कर रमला बहुत बिगड़ी. तब मिहिर ने कहा, ‘‘तुम से मैं इशारोंइशारों में कई बार कह चुका हूं कि बौस को शौपिंग करनी है तुम उस की हैल्प कर दो… मेरे सारे दोस्तों की पत्नियों के साथ वह शौपिंग कर चुका है. वह सिर्फ तुम से मिलना चाहता है. औफिस की सभी लड़कियां उस के साथ जा कर खुश होती हैं. औफिस गर्ल्स के साथ छिछोरापन नहीं करता है.’’

‘‘छोड़ो. तुम्हें कैसे पता ये सब… यह भी कोई प्रमोशन की शर्त है?’’

‘‘देखो मुझ से ज्यादा छानबीन मत करो. नहीं जाना तो मत जाओ,’’ मिहिर भी उस की बात पर ताव खा गया. फिर रमला को छोड़ ड्राइंगरूम में चला गया.

इस बात को काफी दिन हो गए. बात वहीं अटकी है.

तभी स्कूटर की आवाज से रमला की सोच टूटी. वह जान गई कि पति आ गए हैं. जानती है घर में घुसते ही बौसपुराण शुरू हो जाएगा. सो डोरबैल बजने से पहले ही दरवाजा खोल कर रसोई में खाना गरम करने चली गई.

खाने की मेज पर दोनों चुप थे. खाना खत्म हो गया तो मिहिर ने धीरे से कहा, ‘‘कल औफिस में बाहर से कुछ लोग आ रहे हैं. वे यहां से शौपिंग करना चाहते हैं. तुम उन की हैल्प करोगी? देखो, गुस्सा मत होना. पहले पूरी बात सुन लो. दरअसल, बौस को अपनी पत्नी के लिए बनारसी साड़ी खरीदनी है. सो तुम साथ होगी तो शौपिंग ईजी होगी. सब से बड़ी बात मैं भी उन के साथ रहूंगा.’’

रमला बड़ी देर तक सोचती रही कि वैसे साथ जाने में हरज ही क्या है. साथ

में इतने सारे लोगों… पति की इतनी सी बात तो मान ही सकती है. फिर मर्दों को औरतों के कपड़ों की पहचान कहां होती है? फिर बोली, ‘‘ठीक है चलूंगी.’’

‘‘ठीक है मैं चलने से पहले तुम्हें बता दूंगा.’’

ठीक 5 बजे शाम को मिहिर का फोन आया, ‘‘रमला जल्दी से तैयार हो जाओ. हम आधे घंटे में घर पहुंच रहे हैं.’’

रमला साड़ी बदलने अंदर गई और कुछ देर बाद दरवाजा धकेलने की आवाज से समझ गई कि दोनों आ गए हैं.

वह तैयार हो कर आई तो मिहिर को कोक सर्व करते देखा.

‘‘नमस्ते सर,’’ रमला की आंखें बौस के चेहरे पर जमीं. बौस का चेहरा कुछ जानापहचाना सा लगा.

नमस्ते के जवाब के साथ बौस का स्वर उभरा, ‘‘तुम… तुम रमला हो?’’

‘‘जी, सर. आप रूपेश, सर?’’

‘‘ओह, तो मिहिर यह तुम्हारी पत्नी रमला है,’’ वह कुछ झिझका, ‘‘वह क्या है मिहिर हम एकदूसरे को पहले से जानते हैं.’’

‘‘ओह गुड सर,’’ मिहिर इस मुलाकात से खुश था.

‘‘याद है रमला तुम अकसर पापा की दुकान पर आती थीं.’’

रमला ने हां में सिर हिला दिया.

‘‘हां, फिर सुना तुम्हारे पापा बीमार हो गए थे. शायद तुम्हारी मां और मेरे पापा एक ही हौस्पिटल में थे. बाद में मेरे पापा का इंतकाल हो गया.’’

‘‘हां, याद आया.’’

रमला और मिहिर दोनों एक ही शहर से हैं और साथ पढ़े भी हैं यह जान कर मिहिर ने मन ही मन कहा कि अब तो प्रमोशन की दबी फाइल झट से बौस की टेबल पर आ जाएगी.

बातों का सिलसिला जारी रहा. तीनों गाड़ी में आ बैठे. कुछ देर में रूपेश गाड़ी ड्राइव करने लगा. मिहिर बगल में बैठा था और रमला पीछे.

3 लोग 3 दिशाओं में सोच रहे थे… रूपेश सोच रहा था कि वह कभी रमला के प्रति आकर्षित था. तब वह 10वीं कक्षा में था. घर में कड़ा अनुशासन था. सो रमला से बात करने की हिम्मत ही नहीं होती थी.

गरमी की छुट्टियां थीं. रमला ने पेंटिंग क्लासेज जौइन कर ली थीं. एक रोज उस ने रूपेश को भी वहां देखा. दोनों का मेलजोल बढ़ा. दोनों को एकदूसरे की दोस्ती भा गई. पेंटिंग रूपेश का पैशन था. उस का मन करता रमला पास बैठी रहे और वह पेंटिंग करता रहे, पर उस के हिस्से में कुछ और ही लिखा था.

पिता को अचानक हौस्पिटल ले जाना पड़ा तो पेंटिंग क्लासेज छूट गईं. पर पैशन बरकरार रहा. एक दिन रमला उसे हौस्पिटल में मिली. मिहिर के पिता को कैंसर है जान कर बड़ा दुख हुआ.

कैसे थे वे दिन. तब रमला उसे मिली और फिर पता ही न चला कहां चली गई.

आज अचानक यहां देख कर बड़ी खुशी हुई. वैसे उस ने कभी सोचा भी न था कि रमला से यों मुलाकात होगी.

इधर रमला सोच रही है कि कितना अच्छा इंसान था रूपेश? जो कुछ उस के पति ने उस के बारे में बताया उस से मिल कर उस पर विश्वास नहीं होता. घर में कड़ा अनुशासन था. दोनों छिपछिप कर मिलते थे. रूपेश आदर्श और सचाई की मूर्ति था. लड़कियों की तरफ तो कभी आंख उठा कर भी नहीं देखता था. मैं उसे किताबी कीड़ा कह कर चिढ़ाती थी तो वह कहता था देखना ये किताबें ही मुझे जीवन में कुछ बनाएंगी.

‘‘और पेंटिंग…?’’ मैं पूछती.

‘‘वह तो मेरी जान है… घर आओ किसी दिन. मेरा कमरा पेंटिंग्स से भरा पड़ा है. रमला जीवन में सबकुछ छोड़ दूंगा पर चित्रकारी कभी नहीं.’’

तब रमला को उस की हर बात में सचाई लगती थी.

‘‘अरे सर,’’ मौल तो पीछे रह गया. हम काफी आगे आ गए हैं.

रमला की तंद्रा टूटी थी. सोच को अचानक ब्रेक लगा.

‘‘ओह, मिहिर हम यहीं उतरते हैं. तुम गाड़ी को पार्क कर के आओ तब तक हम मौल तक पहुंचते हैं,’’ रूपेश ने गाड़ी रोकी और चाबी मिहिर को दे कर रमला के साथ मौल की ओर चल पड़ा.

पता नहीं औफिस में आए गैस्ट पहुंच गए होंगे या नहीं, रूपेश सोच रहा था.

तभी रूपेश का मोबाइल बजा. बात खत्म कर के रमला से बोला, ‘‘हमारे गैस्ट शौपिंग के लिए नहीं आ रहे हैं… चलो सामने बैंच पर बैठते हैं.’’

बैंच पर बैठ कर पता नहीं क्यों उस का मन बेचैन था.

‘‘रमला आज मैं तुम्हें अपने जीवन का सच बताना चाहता हूं.’’

‘‘सच? कैसा सच…? मेरे पति आने वाले हैं,’’ वह घबरा गई थी कि रूपेश पता नहीं क्या कहने जा रहा है.

‘‘अभी मिहिर का फोन आया है कि उसे कुछ काम है. तब तक हम लोग शौपिंग करते हैं… मैं जानता हूं इस दुनिया में तुम से ज्यादा मुझे कोई नहीं जानता. इसीलिए जीवन का सच तुम्हारे सामने रख रहा हूं. शायद फिर कभी मौका न मिले… घबराना नहीं.

‘‘दरअसल, मैं ने 8 वर्ष पहले शादी की थी. लड़की का नाम भावना था. वह बेहद खूबसूरत और आकर्षक थी. इस से पहले मैं ने इतनी खूबसूरत लड़की न देखी थी. सच तो यह था कि भावना को दीवानों जैसा प्यार करता था.

‘‘वह अकेली थी. मांबाप नहीं थे. उस ने बताया था कि मांबाप बचपन में मर गए थे. ट्यूशन कर के खुद पढ़ी और अब भाईबहनों को पढ़ा रही हूं. अभी कुछ दिन पहले यह नौकरी मिली है. रूपेश, आई लव यू फ्रौम कोर औफ माई हार्ट. यदि हम दोनों एक हो जाएं तो मेरा जीवन सुधर जाएगा. काम कर के मैं थक गई हूं. तब मैं ने झट से शादी के लिए हां कर दी. फिर हम ने शादी कर ली.

ये भी पढ़ें- हैप्पीनैस हार्मोन

‘‘लोगों, मित्रों और जानकारों ने मुझे बहुत समझाया कि इस से शादी कर के पछताओगे पर मैं तो उस के प्यार में पागल था. सो झटपट शादी कर ली. बहुत खुश था. जल्द ही असलियत खुल गई. वह सारीसारी रात यारदोस्तों के साथ घूमती. मैं ने उसे बहुत बार प्यार से समझाया पर उस ने यही कहा कि यह मेरी पर्सनल लाइफ

है. मुझे आदमियों के साथ शराब पीना और डांस करना अच्छा लगता है. शराब पी कर आधी रात घर आती. मैं चिढ़ता तो मुझ से मारपीट करती.

‘‘उस की उपेक्षा और दुर्व्यवहार से मैं टूटने लगा था. शादी को 6 महीने बीते थे. एक दिन बोली कि रूपेश मुझे तलाक चाहिए. क्यों? मेरे पूछने पर बोली कि मेरे देर से आने पर तुम्हें एतराज है. मैं आजाद पंछी हूं. यहां मेरा दम घुटता है. मुझे छोड़ दो.

‘‘मैं फिर भी उस के प्यार में डूबा रहा. उसे छोड़ना नहीं चाहता था. मेरे मित्रों ने कहा कि इस ने कइयों के साथ ऐसा ही किया है. तुम्हारे साथ इस की तीसरी शादी

है. इस ने सभी को ऐसे ही अपने जाल में फंसाया. सभी से शादी

तोड़ कर पैसा ऐंठा है. हमारा तलाक हो गया. पैसा तो देना

पड़ा. वह पैसा पा कर खुश थी

और मैं दुनिया का सब से दुखी पति था.

‘‘मैं ने अपनेआप को शराब में डुबो दिया. सारा दिन घर में

बरामदे में कुरसी पर बैठा सिगरेटें फूंकता और आसमान ताकता रहता. लगता सारा आसमान खाली है ठीक मेरे मन की तरह. मेरे जीवन में बहुत कुछ बदल गया था जिस के लिए मैं तैयार न था पर न जाने क्यों इस बदलाव को रोकने का कोई तरीका समझ नहीं आता था. जीवन नर्क बन गया था.

‘‘सब यों ही चलता रहा. औरतों से मुझे नफरत हो गई थी. हर लड़की को देख भावना का चेहरा याद आता. ‘मुझे उस से बदला लेना है,’ यही दिमाग में रहता. आज भी यही हाल है. हर शाम एक औरत मेरे साथ होती है. मैं क्लब में जाता हूं, उस के साथ शराब पीता हूं और घर आ कर सो जाता हूं. औरत को बढि़या सा गिफ्ट जरूर देता हूं. हां, स्त्री को ‘टच’ नहीं करता हूं. न जाने क्यों छूने का मन नहीं करता.

‘‘मेरे जीवन में अब स्त्री के लिए कोई जगह नहीं है. आज तुम्हें देख कर न जाने क्यों मन खुश हो गया. मिहिर कितना खुशहाल है जिसे तुम्हारे जैसा जीवनसाथी मिला है.

‘‘एक मैं हूं… एकदम अकेला. खाली घर की सिमटी दीवारों के बीच कैद हो कर रोता हूं… रमला मैं जीवन से हार गया हूं.’’

रमला ने देखा वह फूटफूट कर रो रहा था. उस का मन उद्विग्न था. उस का मन किया रूपेश को कंधे से लगा ले. किंतु वह ऐसा नहीं कर सकी. पति कभी भी आ सकता है. इस हालत में देख कर कहीं गलत न समझे. फिर भी उस ने धीरे से कंधा थपथपाया, ‘‘तुम्हारे साथ जो हुआ वह गलत हुआ.’’

‘‘मैं क्या कर रहा हूं, क्यों कर रहा हूं नहीं जानता.’’

‘‘हां, उस समय तुम्हें किसी अपने सगे का सहारा चाहिए था,’’ रमला बहुत सोच कर बोली.

‘‘कौन था जो, मुझे सहारा देता? कोई भी तो नहीं था. एक बूढ़ी मां ही तो हैं जो अब लखनऊ में रहती हैं. आज तुम्हें ये सब सुना कर दिल तो हलका हुआ. गाड़ी में बैठा रास्ते भर मैं यही सोचता रहा कि अतीत को तुम्हारे साथ शेयर करूं या न करूं. पता नहीं मिहिर ने तुम्हारे सामने मेरी कैसी पिक्चर पेश की होगी. परंतु जो कुछ मैं ने तुम्हारे सामने कहा वही सच है. अब यह तुम्हारे ऊपर है कि तुम किसे और कितना सच मानती हो. वैसे अब मैं जीना नहीं चाहता और वह फिर रो पड़ा.

‘‘अरे, तुम लोग यहीं बैठे हो शौपिंग कर ली क्या? औफिस वालों का क्या हुआ?’’ अचानक मिहिर आ गया.

‘‘नहीं शौपिंग नहीं की. औफिस वालों का वेट कर रहे थे. उन का फोन आया कि वे लोग नहीं आ रहे हैं… रूपेश ने बताया, ‘‘हम तुम्हारा इंतजार कर रहे थे.’’

मिहिर को रूपेश के चेहरे

से लग रहा था वह टैंशन में है पर चुप रहा.

रमला के लिए यह जानना जरूरी हो गया था कि रूपेश के अतीत को पूरी तरह जाने. जो कुछ आज उस ने बताया है, वह तो बड़ी ही दुखद स्थिति है… जीवन लड़खड़ा गया है. कितनी बेसुरी जिंदगी जी रहा है वह. धोखा वह भी उस से मिला जिसे वह जान से ज्यादा चाहता था.

तनहा रूपेश क्या करे? कौन उस का सहारा बन सकता है? क्या रमला खुद…

नहीं, कहीं ऐसा न हो कि उस की रूपेश के प्रति सहानुभूति उलटी उसी के पति को गलतफहमी का निशाना बना दे… नहीं कुछ और सोचना पड़ेगा. जब से वह रूपेश से मिली है, उस का उदास चेहरा आंखों के आगे से हटता ही नहीं है.

हफ्ता गुजर गया. एक शाम मिहिर झूमतागाता घर में घुसा. उस के हाथ में एक कागज था. रमला के पास जा कर प्यार से बोला, ‘‘रोमी जान एक खुशखबरी…’’

‘‘क्या?’’

‘‘मेरी प्रमोशन…’’

‘‘क्या हुआ?’’

‘‘प्रमोशन और एक ऐक्स्ट्रा इंक्रीमैंट भी मिला है. देखो, मैं ने कहा था न… तुम उसे तरीके से संभालना जानती हो.’’

मिहिर की आखिरी बात उसे छू गई. परंतु उस दिन की कोई बात बता कर मिहिर की खुशी को कम करना नहीं चाहती थी. ठीक है अभी नहीं फिर कभी बताना तो पड़ेगा ही.

ये भी पढ़ें- चाहत की शिकार

आखिर एक दिन मौका देख कर रमला ने उस दिन हुई बातचीत को ज्यों का त्यों मिहिर के सामने रख दिया.

‘‘अच्छा ऐसा है… पर बौस

ने कभी किसी भी औफिस कर्मचारी को नहीं बताया कि उन के साथ इतनी भयानक दुर्घटना घटी है.

वैसे मुझे तो सुन कर भी विश्वास नहीं होता.’’

‘‘यही सच है. तभी तो लड़कियों से नफरत करता है, क्योंकि हर लड़की में उसे भावना नजर आती है.’’

मिहिर भी सोच में पड़ गया कि तभी वह औरतों के साथ कोई गलत काम नहीं करता. सिर्फ शराब पीता है, उन के साथ हंसीमजाक करता है और फिर गिफ्ट दे कर खुश होता है… हम सब मजाक उड़ाते थे. मिहिर सब सुन कर दुखी व परेशान था.

कुछ देर बाद रमला ने मुंह खोला, ‘‘एक बात कहूं?’’

‘‘हां, बोलो,’’ मिहिर पत्नी का चेहरा देख रहा था.

‘‘यदि तुम मुझे इजाजत दो तो मैं रूपेश से कुछ बातें करूं? कहीं तुम्हें बुरा तो नहीं लगेगा?’’

‘‘देखो रमला तुम मेरी पत्नी हो. हमारे बीच विश्वास और प्यार का रिश्ता है. मैं जानता हूं कि रूपेश जिसे तुम बचपन से जानती हो उसे इस हालत में देख कर कितना धक्का लगा होगा. अगर तुम्हारे प्रयास से मेरे बौस के जीवन में बदलाव आ जाए तो मुझ से ज्यादा कोई खुश नहीं होगा. यह बताओ मैं तुम्हारी कोई मदद कर सकता हूं?’’

‘‘हां, रूपेश से कहो कि हम लोग एक दिन उस के घर आना चाहते हैं.’’

‘‘ठीक है.’’

रूपेश समझ गया कि रमला उस के घर पर उस से मिल कर तय करना चाहती है कि क्या करना है.

एक रोज मिहिर और रमला दोनों रूपेश के घर पहुंचे. उस दिन इतवार था. दरवाजे

पर दोनों को खड़ा देख रूपेश चौंका. शायद वह भूल गया था कि मिहिर व रमला ने आना है. अस्तव्यस्त घर, टूटी शराब की बोतलों का ढेर, फटे हुए कागज… घर नहीं, कबाड़ी की दुकान थी. रूपेश ने सोफा खाली कर के दोनों को बैठाया.

झेंप मिटाने के लिए मिहिर यह बहाना कर खिसक लिया कि शायद मैं गाड़ी को लौक करना भूल गया हूं. अभी आता हूं.

‘‘देखो, रूपेश मैं तुम्हें बचपन से जानती हूं. यह भी जानती हूं कि तुम जैसे संजीदा, सीधेसच्चे ईमानदार व्यक्ति का मन एक बार टूट जाए तो उसे समेटना आसान नहीं होता है. आज तुम वे रूपेश नहीं रहे जो 10 साल पहले थे.

‘‘तुम्हारे साथ भावना ने विश्वासघात किया. क्यों किया नहीं जानना चाहती. वह अब कहां

है, कैसी है यह भी मैं जानना नहीं चाहती पर तुम ने गहरी चोट खाई है. तुम अभी तक उसे भूले नहीं हो.

‘‘जीवन एक युद्ध है. कितनी बार हम चोट खाते हैं, हारते हैं, जीतते हैं पर यह युद्ध कभी खत्म नहीं होता. हारे हैं तो जीत भी तो उस के बाद ही है… तुम इस में अपने को दोषी क्यों मानते हो? दुखी तो भावना को होना चाहिए. गलती तो उस की है जो उस ने उच्च आदर्शों वाले रूपेश को समझने की कोशिश ही नहीं की. यहां गलती उस की है. उसे तो जरा भी पछतावा नहीं हुआ यानी वह स्वार्थी है. अच्छा ही हुआ, पीछा छूटा.

‘‘अब अतीत को भूल जाओ और खुद को संभालो. नए सिरे से जीवन को नया मोड़ दो… नए दोस्त बनाओ और खुश रहो… ‘बी क्रिएटिव.’’

रूपेश हैरान सा रमला का चेहरा देख रहा था.

‘‘वह पेंटिंग्स बनाने का तुम्हारा पैशन कहां गया? अभी भी चल रहा है न…? डूब जाओ

उस में…’’

‘‘नहीं अब मन नहीं करता,’’ रूपेश ने डूबी आवाज में कहा.

‘‘अरे, तुम्हारी व्यथा को कैनवस, ब्रश और रंगों से अधिक कौन समझेगा.

मनोस्थिति, दुख को उस पर उकेरो… कर के तो देखो रूपेश… तुम्हीं ने एक बार कहा था कि जिंदगी ब्लैक ऐंड व्हाइट नहीं होती. इस में सैकड़ों रंग हैं. कैनवस पर वे सैकड़ों रंग बिखेरेंगे तो अवसाद का काला रंग कहीं खो जाएगा.’’

रूपेश उस की बातों को बड़े ध्यान से सुन रहा था. रमला की हर बात उसे छू रही थी.

‘‘मैं अगले संडे आती हूं. हम तीनों एक पेंटिंग ऐग्जिबिशन में चलेंगे. यह प्रदर्शनी मशहूर शुचि खन्ना ने लगाई है.’’

रमला के जाने के बाद रूपेश को याद आया कि पिछली बार वह भावना के साथ एक प्रदर्शनी में गया था. भावना बोर हो रही थी, दोनों बीच से ही वापस आ गए थे. उसे बहुत बुरा लगा था पर आज नहीं…

प्रदर्शनी देख कर रूपेश पुरानी फौर्म में आ गया. आज उस में जोश था, खुशी थी. रमला व मिहिर के साथ रहते हुए अपनेआप को ऐनर्जेटिक महसूस करता था.

यों ही हंसीखुशी महीना गुजर गया. एक दिन मिहिर ने बताया, ‘‘रूपेश सर का लखनऊ ट्रांसफर हो गया है.’’

रूपेश के जाने के बाद मिहिर व रमला अकसर उस की बातें करते.

2 साल बीत गए. एक दिन उन के हाथ में खूबसूरत सा कार्ड था.

‘‘मिहिर व रमला, मैं ने रिचा नाम की एक आर्टिस्ट से विवाह कर लिया है. हमारी शैली

नाम की छोटी सी बिटिया है. अगले महीने की 10 तारीख को हम दोनों को एक छोटी सी प्रदर्शनी लगानी है. इस पेंटिंग प्रदर्शनी का उद्घाटन करने तुम दोनों को आना है. आज मैं

जो भी हूं तुम लोगों की प्रेरणा से हूं. आ कर

देखो जीवन में सैकड़ों रंग बिखर गए हैं. सच जिंदगी ब्लैक ऐंड व्हाइट नहीं होती.

-रूपेश, रिचा’’

पत्र पा कर रमला खुश थी कि उस ने जीवन में किसी की जिंदगी में बदलाव लाया है. वाकई जिंदगी रंगों से भर गई है रूपेश की.

रूपेश ने कहा ही नहीं सिद्ध भी कर दिया कि जिंदगी ब्लैक ऐंड व्हाइट नहीं होती, रंगों को सिर्फ छिटकाना आना चाहिए.

Tags:
COMMENT